आंधी और बरसात से धान को नुकसान

  • किसानों ने की नुकसान भरपाई की मांग

धानोरा. तहसील के रांगी परिसर में आंधी के साथ आई बरसात की वजह से धान की फसल का भारी नुकसान हुआ। किसानों के हाथ में आने वाली फसल प्रकृति ने छीन ने ली। जिससे किसान चिंताओं में डूबा है. आंधी और बरसात से धान की पैदावार पर प्रतिकूल परिणाम पडने की पूरी संभावना है। इसलिए नुकसानग्रस्त फसलों का सर्वे कर तुरंत नुकसान भरपाई की मांग किसानों ने की है।

रांगी परिसर के खेती पूर्णत बरसात के पानी पर निर्भर है। परिसर के निमनवाडा, निमगांव, बोरी, खेडी, कन्हालगांव, आस्वलपार, सोडे, मोहली, महावाडा ऐसे अनेक  छोटे बडे गांव है। किंतु कहीं भी सिंचाई की सुविधा नहीं है। इस क्षेत्र के किसानों ने बैंक से कर्ज लेकर खेती करते है। किंतु मौसम की मार उन्हे अक्सर झेलनी पडती है कभी अतिवृष्टि तो कभी अल्वृष्टि की वजह से किसानों को अक्सर संकटों का सामना करना पड़ता है। गत सप्ताह में आई मूसलाधार बारिश के कारण किसानों पर आसमानी संकट आ गया। बारिश से धान फसलों काफी नुकसान हुआ है फसल खेतों में सो गई है। खेतों में कई दिनों तक पानी भरा रहने से धान की फसल सड गई। जिससे धान की पैदावार कम होने की संभावना है। इसलिए तहसीलदार से सर्वे करा नुकसान भरपाई की मांग किसानों ने की है।

फसलों पर कीटों का हमला

लौटते मानसून में आई बरसात की वजह से खेतों में नमी बनी है। इसके चलते धान की फसल पर अनेक प्रकार के कीटों ने हमला कर दिया। कीट धान के पत्ते और धान की बाली को चट कर रहे है।  किसानों ने कीटनाशक का छिडकाव किया किंतु विशेष असर नहीं पडा है। जिससे हाथ में आने वाली फसल के बर्बाद होने की संभावना से किसानों के माथे पर चिंता दिखाई दे रही है