Indian-origin shopkeeper banned for tax crime

  • शिवसेना शहर प्रमुख पंकज आखाडे की मांग

आरमोरी. स्थानीय नगर परिषद की ओर से मालमत्ता के जीआईएस पद्धति से नए टैक्स लगाए गए है. इन टैक्स में 4 से 5 गुना वृद्धी हुई है. जिसेस आम नागरिकों को यह टैक्स भरना मुश्किल है. नगर परिषद द्वारा लगाया गया टैक्स कम करे, ऐसी मांग शिवसेना के शहर प्रमुख पंकज आखाडे ने मुख्याधिकारी से ज्ञापन द्वारा की है. 

फिलहाल कोरोना संक्रमण के कारण नागरिकों के पास रोजगार नहीं है. ऐसे में नगर परिषद ने आम जनता पर लगाया गया मालमत्ता टैक्स यह आम लोगों की कमर तोडनेवाला है. आम जनता को टैक्स भरे या पेट ऐसा सवाल निर्माण हुआ है. मालमत्ता टैक्स के साथ ही वृक्षकर, शिक्षा कर भी लगाया गया है.

मात्र नगर परिषद की ओर कोई स्कूलें नहीं होने के बावजूद शिक्षा टैक्स कौनसे पद्धती से लगाए गए, उक्त स्कूल अब भी जिप के पास होने के कारण शिक्षा टैक्स रद्द करे, वहीं आरमोरी शहर में कहीं भी नगर परिषद की ओर से कहीं भी पेड लगाकर उसका जतन नहीं किया गया, जिससे नगर परिषद द्वारा लगाए गए वृक्ष यह नदी तटथ् तथा घनकचरा क्षेपणभूमि पर लगाए गए होकर इन्हे पानी की सुविधा नहीं, इनके देखभाल के लिए नप की ओर से कोई भी मजदूर नहीं रखा गया है. जिससे वृक्षकर भी रद्द करे, ऐसी मांग पंकज आखाडे ने ज्ञापन से की है.