गडचिरोली-चामोर्शी राष्ट्रीय महामार्ग की धिमी रफ्तार

  • वाहन चालकों को हो रही परेशानी

गडचिरोली. बिते वर्ष से गडचिरोली-चामोर्शी इस राष्ट्रीय महामार्ग का जारी निर्माणकार्य धिमी रफ्तार शुरू होने से वाहनधारकों के साथ नागरिकों में संबंधित ठेकेदार के प्रति रोष व्यक्त हो रहा है. संबंधित ठेकेदार के इन मनमानी कार्य के चलते वाहनधारकों को विगत एक वर्षो से परेशानियों का सामना करना पड रहा है. इस ओर संबंधित विभाग के वरीष्ठों ने अनदेखी करने से यातायात करनेवाले लोगों में प्रशासन के प्रति तिव्र रोष व्यक्त किया जा रहा है. 

गडचिरोली-चामोर्शी इस राष्ट्रीय महामार्ग का निर्माण ठेकेदार मार्फत विगत 1 वर्षो से शुरू है. मात्र जिस पद्धती से सडक का निर्माणकार्य होना चाहिए था, वैसा होता दिखाई नहीं दे रहा है. ऐसी बात नागरिकों द्वारा कहीं जा रही है. सडक का खुदाईकार्य किए जाने से पहले ही उक्त मार्ग संकरा हो गया है. ऐसे में नवनिर्मित निर्माणकार्य के साहित्य सडक के एक छोर पर डाले जा रहे है. जिससे इस मार्ग से यातायात करना कठीण हो रहा है. इवहीं सडक पर बडे बडे गड्ढे निर्माण होने से उक्त गड्ढे दुर्घटना को निमंत्रण दे रहे है. सर्वत्र कोरोना महामारी का संक्रमण है, इस ठेकेदार मार्फत कार्यरत मजदूरों के संदर्भ में कोई भी उपाययोजना नहीं की गई है. संबंधित ठेकेदार द्वारा इस कार्य में घटिया स्तर के साहित्यों का उपयोग करने का संदेह व्यक्त हो रहा है. 

एक छोर पर सिमेंट सडक का कार्य शुरू होने से दुसरे छोर पर सुव्यवस्थित सडक तैयार करने की जिम्मेदारी ठेकेदार की है, मात्र इस ओर ठेकेदार नने अनदेखी की थी. वहीं कार्य करते समय उक्त सउक पर नियमित पानी नहीं डाले जाने से आवागमन करनेवाले नागरिकों को धुल का सामना करना पड रहा है. लोगों के स्वास्थ्य पर विपरीत परिणाम हो रहा है. इस ओर संबंधित विभाग ने अनदेखी की है. ठेकेदार का मनमानी कार्य शुरू रहते समय लोकनिर्माण विभाग के अधिकारी कार्य का दर्जा जांचने के लिए साधी जांच भी नहीं करने से इस मार्ग से यातायात करनेवाले नागरिकों में रोष व्यक्त हो रहा है. 

वनवे से वाहनधारक त्रस्त

संबंधित ठेकेदार के अनियमित कार्य से यातायात करनेवाले नागरिकों के साथ ही इस मार्ग पर के किसानों को भी परेशानियों का सामना करना पड रहा है. सडक के कारण बरसात में किसानों का व्यापक नुकसान हुआ था. बिते कुछ दिन पूर्व संबंधित ठेकेदार ने मुख्य सडक पर ट्रक लगाकर मार्ग ठप्प करने का मामला हुआ था. जिससे यात्रियों को रात के दौरान करीब 2 घंटे तक इंतजार करना पडा था. संबंधित ठेकेदार मार्फत उक्त निर्माणकार्य पर अवैध रूप से चोरी की रेती इस्तेमाल किए जाने की जानकारी है. जिससे सरकार का लाखों रूपयों का राजस्व डूब रहा है. दीपावली के कालावधि में तहसीलदार मार्फत चोरी की रेत पकडकर जुर्माना भी लगाए जाने की चर्चा है. जिससे ऐसे गैरजिम्मेदार ठेकेदार पर कडे कार्रवाई की मांग हो रही है.