बिजली आपूर्ति सुचारू करे, अन्यथा आंदोलन

  • विधायक कृष्णा गजबे ने दी ज्ञापन से चेतावनी

कुरखेडा. खरीफ सीजन में हुए नुकसान की पूर्ति रब्बी सीजन में करने की आंस पर होनेवाला किसान बिजली वितरण कंपनी के मनमानी कार्य के चलते त्रस्त हुआ है. कृषि पंपो को सुचारू बिजली आपूर्ति कर मायुस किसानों को राहत दे, अन्यथा बिजली वितरण कंपनी के खिलाफ 7 दिसंबर को तहसील के गेवर्धा में चक्काजाम आंदोलन करने की चेतावनी विधायक कृष्णा गजबे ने बिजली वितरण कंपनी को ज्ञापन द्वारा दी है. 

इस वर्ष अच्छी बारिश होने से मनार प्रकल्प के साथ ही छोटे बडे तालाब, कुओं में व्यापक जलस्तर है. जिससे किसानों ने रब्बी सीजन में फसलों की बुआई की है. इस वर्ष रब्बी फसलों का अच्छा उत्पादन होगा, ऐसी आंस निर्माण हुई है. मात्र बिजली वितरण कंपनी के मनमानीक कार्य के चलते किसानों को सुचारू बिजली आपूर्ति नहीं होती है. फलस्वरूप गेहू, चना व अन्य फसलों को पानी देना मुश्किल हो रहा है. 

तहसील के अनेक ट्रान्सफॉर्मर नादुरुस्त है. सुचारू व उचित दबाव की बिजली आपूर्ति नहीं होने से कृषि पंप नहीं चलते है. गावठाण डिपी समेत कृषी पंपों के रोहित्र बंद है. इसकी सूचना किसानों को नहीं दी जाती है. नादुरूस्त डिपी के मरम्मत की ओर ध्यान नहीं दिया जाता है. ऐसे में खेती के लिए जानबुझकर कम दबाव की बिजली आपूर्ति की की जा रही है. जिससे रोहित्र में बिघाड निर्माण होता है. बिजली वाहिनी पर का लोड उचित रहे इसके लिए बिजली मंडल के 8-8 घंटे की समयसारणी तैयार की है. फिर भी सुचारू बिजली आपूर्ति नहीं होने की शिकायते है.

आगामी 7 दिसंबर के पूर्व कुरखेडा तहसील की बिजली आपूर्ति सुचारू न करने पर तीव्र आंदोलन किया जाएगा, ऐसी चेतावनी बिजली वितरण कंपनी के उपकार्यकारी अभियंता को ज्ञापन द्वारा दी गई है. ज्ञापन सौंपते समय विधायक कृष्णा गजबे, व्यंकटी नागीलवार, हेमंत खुणे, भाजप युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष चांगदेव फाये, दिगांबर नाकाडे, राकेश खुणे, नितीन खुणे, रोशन सय्यद, नुपराज लाडे, बबलु शेख, मुन्ना डहाले, भगवान डहाले, केशव किरसान, नारायण नाकाडे उपस्थित थे.