road

  • एटापल्ली-डुम्मे-जवेली मार्ग पर निर्माण हुए गड्ढे

एटापल्ली. तहसील स्थल से 5 किमी दुरी पर होनेवाले डुम्मे-जवेली मार्ग पर ठेकेदार द्वारा 10 लाख रूपयों का निधी खर्च कर तीन माह पूर्व मरम्मत के नाम निर्माणकार्य किया गया. किंतु कुछ ही दिनों में उक्त मार्ग पर गड्ढे निर्माण होने से उक्त निर्माणकार्य की जर्जर अवस्था हुई है. निर्माणकार्य घटीया दर्जे का साहित्यों का उपयोग किया जाने से उक्त मार्ग पर गड्ढो का साम्राज्य निर्माण हुआ है. मात्र संबंधित विभाग ने इस ओर अनदेखी की होने से उक्त निर्माणकार्य में गैरव्यवहार को बढावा मिलते होने की चर्चा चहुओर शुरू है. 

निर्माणकार्य विभाग अंतर्गत एक ठेकेदार को एटापल्ली-डुम्मे-जवेली इस 5 किमी मार्ग की सडक मरम्मत का ठेका दिया गया. उक्त निर्माणकार्य मरम्मत के लिए 10 लाख रूपयों का निधी मंजुर किया गया. उक्त सडक मरम्मत का काम 3 महिने में पुरा किया गया. किंतु सडक निर्माणकार्य घटीया दर्जे का होने से 3 महिनों में ही निर्माणकार्य की सडक खस्ताहाल हुई है. सडक निर्माणकार्य में डांमर का उपयोग कम किया जाने से डांमर निकल जाने से सडक पर गड्ढे निर्माण हुए है. किंतु इस ओर निर्माणकार्य विभाग के अभियताओं ने अनदेखी की होने से उनके कार्यप्रणाली पर प्रश्न उपस्थित हो रहे है. डुम्मे-जवेली उक्त परिसर के नागरिकों को विभन्नि कार्य के लिए तहसीलस्तर पर आवागमन करते है. किंतु सडक की जर्जर अवस्था से बारीश में नागरिकों को साथ ही वाहनधारकों को परेशानीयों का सामना करना पड रहा है. जिससे उक्त सडक मरम्मत निर्माणकार्य की कडी जांच कर संबंधित ठेकेदार पर कार्रवाई करने मांग की जा रही है. 

सडक निर्माणकार्य का बिल नही दिया गया –  अभियंता गोंडे
उक्त 5 किमी सडक मरम्मत निर्माणकार्य के लिए 10 लाख रूपयों का निधी मंजुर किया गया. उक्त निर्माणकार्य के लिए ठेकेदार की ओर से 2 वर्ष का करारनामा लिया गया है. जिससे सडक मरम्मत तथा देखरेख की जिम्मेदारी संबंधित ठेकेदार की है. उक्त निर्माणकार्य का बिल अब तक नही दिया गया होने की जानकारी निर्माणकार्य विभाग के अभियंता श्रीराम गोंडे ने दी है.