राष्ट्रीय महामार्ग से हाथीगेट का अस्तित्व खतरे में, हाथीगेट की जगह छोड़कर महामार्ग का निर्माण की मांग

चामोर्शी. शहर के वैभव को जोडनेवाला हाथीगेट 20 वर्ष पूर्व बनाया गया। हाथी गेट से शहर को अलग लुक प्राप्त हुआ। हाल में शहर से जानेवाले मुख्य राष्ट्रीय महामार्ग का काम शुरू किया गया है। जिससे हाथीगेट महामार्ग के काम पर आडे आने से  हाथीगेट का अस्तित्व खतरे में आ गया है। हाथीगेट की जगह छोडकर राष्ट्रीय महामार्ग का काम करने की ऐसी मांग शहर के नागरिकों ने की है।

शहर से जानेवाले राष्ट्रीय महामार्ग काम की चौडाई 24 फुट है। बीच से दोनों साईड की चौडाई 12 व 12 फुट है। जिससे हाथीगेट 12 फुट के अंदर आया है। जिससे दूसरे बाजु में चौडाई बढाने पर हाथीगेट को किसी प्रकार का नुकसान नहीं होगा। गेट गिराने के पूर्व नगरपंचायत प्रशासन की अनुमति लेना आवश्यक है। जिससे शहर के वैभव में जोडनेवाला हाथीगेट नेस्तनाबूत करने की अनुमति नगरपंचायत प्रशासन नहीं देगा। उसके लिए राष्ट्रीय महामार्ग की ओर से इस जगह पर नए गेट का निर्माण करा दे अथवा गेट कायम रहने के लिए दूसरा विकल्प उपलब्ध कर हाथीगेट को नुकसान न पहुंचे ऐसी व्यवस्था की मांग की जा रही है।

शहरवासियों की टिकी निगाहें 

गडचिरोली से आष्टी तक राष्ट्रीय महामार्ग का निर्माण शुरू होने से चामोर्शी का हाथीगेट इस महामार्ग के निर्माण में आडे आ रहा है। जिससे हाथीगेट न गिराकर नया विकल्प चुने, ऐसी मांग चामोर्शी वासिओं ने की है। महामार्ग के निर्माण हेतु बुधवार 18 नवंबर को उक्त जगह पर नपाई करने पर, यह बात शरवासियों के ध्यान में आई। इस बारे में क्या निर्णय लिया जाता है, इसकी ओर नागरिकों की निगाहें टिकी है।