पृथक विदर्भ के लिए जिले में जगह जगह ठिय्या

गडचिरोली. विदर्भ के सर्वांगीण विकास के लिए, किसानों के विभीन्न समस्याएं हल करने के लिए तथा बेरोजगारों की समस्या हल करने के लिए तत्काल पृथक विदर्भ राज्य का निर्माण करे, इस मुख्य मांग के साथ अन्य मांगों को लेकर सोमवार 7 दिसंबर को जिले में जगह जगह धरना व ठि्य्या आंदोलन किया गया. इस समय पृथक विदर्भ के साथ अन्य मांगो का ज्ञापन मुख्यमंत्री को पेश किया गया. 

ज्ञापन में कहां है कि, विदर्भ का सर्वागिन विकास करना, किसानों की समस्या हल करना, बेरोजगारों को रोजगार के मौके निर्माण करने के लिए स्वतंत्र विदर्भ राज्य का निर्माण करना आवश्यक है. पृथक विदर्भ के बगैर विदर्भ की समस्याएं हल नहीं होगी. जिससे स्वतंत्र विदर्भ राज्य के निर्माण के साथ कोरोना कालावधि के बिजली बील राज्य सरकार भरे, 200 युनिट तक के बिजली बील माफ करे, स्थिर आकार, मीटर किराया, बिजली वहन टैक्स, भार अधिकार बंद करे, कृषि पंपों के बिजली बिल माफ करे, कृषिपंपों के लोडशेडींग बंद करे, विदर्भ के किसानों को अतिवृष्टि का नुकसान मुआवजे के रूप में प्रति हेक्टेयर 25 हजार की मदद दे इन मांगों को लेकर विदर्भवादीयों ने आंदोलन किया.

इस मांगों का ज्ञापन तहसीलदार मार्फत मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे तथा उर्जामंत्री नितीन राऊत को भेजा गया. गडचिरोली के आंदोलन में अरुण पा. मुनघाटे, रमेश भुरसे, समय्या पसुला, एजाज शेख, दादाराव चुधरी, अमिता मडावी, गोवर्धन चव्हाण, दादाजी चापले, नारायण झरकर, गुरुदेव भोपये, रमेश उप्पलवार आदि समेत वैदर्भीय नेते उपस्थित थे. 

अहेरी में तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन 

विलास रापर्तीवार इनके नेतृत्व में अहेरी विदर्भवादीयों की ओर से आंदोलन किया गया. इस समय अहेरी के अप्पर जिलाधिकारी इनके मार्फत मुख्यमंत्री को विभीन्न मांगो का ज्ञापन पेश किया गया. इस समय प्रा. ढेंगले, अतुल सिंगरु, छत्रपती गोवर्धन, विवेक बेझलवार आदी उपस्थित थे.