जिले में नामशेष है शौचालयों का उपयोग, अब भी खुले में जा रहे लोग

    गड़चिरोली. राज्य और केंद्र सरकार स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत विभिन्न योजनाओं के माध्यम से लोगों को शौचालय निर्माण करने के लिये निधि उपलब्ध कराई जा रही है. लेकिन गड़चिरोल जिले की विभिन्न तहसीलों के  ग्रामीण परिसर में लोगों द्वारा शौचालय का निर्माण करने के बजाय खुले का उपयोग किया जा रहा है. 

    जिससे जिले के ग्रामीण क्षेत्र में स्वच्छता मुहिम की धज्जियां उड़ते दिखाई दे रही है. सरकार द्वारा दिये जानेवाले अनुदान का अनेक लोग दुसरे काम पर उपयोग कर शौचालय के कार्य आधे-अधुरे छोड़ दिये है. जिसके कारण  शौचालय निर्माण के लिये लोगों में जनजनागृति करने की आवश्यकता होने की बात कही जा रही है.

    बता दे कि, स्वच्छ भारत अभियान अंतर्गत गांव-गांव में स्वच्छता अभियान चलाई जा रही है. इस अभियान में अनेक स्वयंसेवी संस्थाएं भी बढ़चढ़कर हिस्सा लेकर लोगों में जनजागृति करने का प्रयास करते दिखाई दे रहे है. दुसरी ओर केंद्र और राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक नागरिकों के घर में शौचालय निर्माण होकर स्वच्छ भारत मिशन अभियान सफल हो, इस उद्देश से विभिन्न योजना अंतर्गत निधि उपलब्ध करा देकर प्रशासन को शौचालय निर्माण करने का लक्ष्य दिया. और प्रशासन के अधिकारी और कर्मचारी भी लोगों में जनजागृति कर शौचालय निर्माण करने संदर्भ में विशेष प्रयास करते दिखाई दे रहे है.

    किंतु दुसरी ओर ग्रामीण और दुर्गम परिसर में अब भी लोग जागृत होते नहीं दिखाई दे रहे है. वर्तमान में यह आलम है कि, अनेक लोगों को शौचालय मंजूर होने के बावजूद भी  कई लोग शौचालय का ही निर्माण नहीं किया  है, तो कुछ लोगों को शौचालय  निर्माण करने के बावजूद भी उपयोग नहीं करने से शौचालय शो-पिस बनकर रहे गये है. ग्रामीण और दुर्गम परिसर के लोग शौचालय का उपयोग न करते हुए सड़क किनारे पर ही शौच के लिये बैठ रहे है. जिससे गांव और परिसर में गदंगी का आलम दिखाई दे रहा है.

    गांव शौचमुक्त करने के लिये प्रत्येक ग्राम पंचायतों को जिम्मा दिया गया है. और ग्राम पंचायतों के माध्यम से निजि और सार्वजनिक शौचालय का निर्माण करने का काम शुरू है. ऐसा होते हुए भी तहसील की स्थिति देखे तो, लोगों में जनजागृति का अभाव दिखाई दे रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत करने के लिये हाथ मेंं झाडु लेकर इस अभियान में सभी हिस्सा लेने की अपिल की थी.

    जिससे उनकी अपिल को देश में भारी प्रतिसाद मिला. और देश में जहा-तहा स्वच्छता अभियान चलाया गया. और यह कार्य वर्तमान स्थिति में भी शुरू है. किंतु जिले  के ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्र के लोगों में जनजागृति  नहीं होने के कारण आज भी लोग शौचालय का उपयोग न करते हुए सड़कों पर शौच करते हुए दिखाई दे रहे है.

    लकडियां रखने काम आ रहे शौचालय  

    सरकार की योजना का लाभ लेते हुए अनेक लोगों ने अपने घरों मेंं शौचालय तो बनाया है. लेकिन उनका उपयोग नहीं हो रहा है. ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्र की बात करें तो, इस क्षेत्र के लोग शौचालय में सामग्री और भोजन के लिये लाए लकडियां रखते दिखाई दे रहे है. किंतु संबंधित विभाग द्वारा उचित जनजागृति नहीं किए जाने से ऐसे अनेक मामले सामने आ रहे है. अनेक नागरिकों ने तो अपने घरों में शौचालय का निर्माण किया. किंतु शौचालय का  उपयोग न करते हुए जंगल व खुले में जानाना पसंद कर रहे है. वहीं शौचालय में लकडियां समेत अन्य सामग्री रख रहे है. जिससे प्रशासन को लोगों में जनजागृति करने का बिड़ा उठाने की आवश्कता है.