ग्रापं कार्यालय के समक्ष कचरे का साम्राज्य

  • अनेक माह से नहीं उठाया गया कचरा

चामोर्शी. ग्रामपंचायत यह गांव विकास का केंद्रबिंदू होता है। मात्र ग्राम पंचायत कार्यालय परिसर में ही कचरे का आलम होने से गांव का विकास कैसे होगा ऐसा सवाल उठ रहा है। तहसील के भेंडाला ग्राम पंचायत कार्यालय के समक्ष कचरे का साम्राज्य लगा है। जिससे नागरिकों का स्वास्थ्य खतरे में आया है। 

तहसील के भेंडाला परिसर के गांवों में कचरे की समस्या दिन ब दिन बढती जा रही है। भेंडाला में ग्राम पंचायत कार्यालय के समक्ष के परिसर के नागरिक सडक पर ही कचरा फेंकते है। जिससे सडक किनारे कचरे का ढेर लगा है। बतां दे कि, सरकार ने प्लास्टिक पर पाबंदी लगा दी है। मात्र इस कचरे के ढेर में बडी मात्रा में प्लास्टिक पन्नी दिखाई पडती है। कचरे से खाद निर्मिती करने से बडी समस्या हल हो सकती है। मात्र इसके लिए कोई भी आगे नहीं आता है।

प्लास्टिक बंदी घोषित करने के बाद से अनेक नागरिक कपडे की थैलियों का इस्तेमाल नहीं कर रहे है। कुछ नागरिक धडल्ले से प्लास्टीक थैली, कैरीबैग का इस्तेमाल कर रहे है। जिससे प्लास्टिक थैली का इस्तेमाल करनेवालों पर जबतक जुर्माने की कार्रवाई नहीं होती तब तक नागरिक इसे गंभीरता से नहीं लेंगे। घर से निकलनेवाला कचरा  ग्रामीण सडक के किनारे स्थित कचरा कुंडी में डालते है। यह कचरा कुंडी कचरे से  भर जाती है। मात्र कचरा कुंडी से कचरा नहीं उठाया जाता है. जिससे इस कचरे के कारण परिसर में बदबू उठती है। इस बदबू के कारण नागरिकों का स्वास्थ्य खतरे में की संभावना है। 

परिसर के  सफाई  की मांग 

ग्रामीणों मांग होने के बावजूद भेंडाला ग्राम पंचायत ने कचरे का प्रबंधन करने के लिए अबतक घंटागाडी की सुविधा नहीं की है। फिलहाल कोरोना महामारी शुरू होने से गांव का संपूर्ण परिसर साफ सुथरा रखने का कार्य ग्रामीण व ग्राम पंचायत का है। मात्र इस कार्य की ओर ध्यान देने की आवश्यकता निर्माण हुई है। जल्द से जल्द कचरे का प्रबंधन कर परिसर की सफाई करे, ऐसी मांग ग्रामीणों द्वारा की जा रही है।