जलापूर्ति: जलशुद्धीकरण केंद्र में आयी खराबी, शुद्ध जल का खोज रहे विकल्प, दूषित जल पीने विवश हुए चामोर्शीवासी

    चामोर्शी. नगर पंचायत के जलापूर्ति योजना के अंतर्गत लोंढोली वैनगंगा नदीघाट पर पानी की टंकी का निर्माण किया गया है. इस टंकी से मार्कंडादेव मार्ग के जलशुद्धीकरण केंद्र में पानी शुध्द किया जाता है. इसके बाद पानी की टंकी और बाद में शहर में जलापुर्ति की जाती है. लेकिन पिछले 8 से 10 दिनों से जलशुध्दीकरण केंद्र में खराबी आने के कारण शहरवासियों को दूषित जलापुर्ति की जा रही है. वहीं लोगों के पास विकल्प नहीं होने के कारण दूषित जलापुर्ति पिने पर नागरिक विवश हो गये हैं. जिससे नागरिकों के स्वास्थ्य पर विपरित परिणाम होने की संभावना जताई जा रही है.

    वर्तमान स्थिति में बारिश के दिन शुरू होकर निरंतर बारिश हो रही है. जिससे नदी का पानी दूषित हो रहा है. नपं प्रशासन द्वारा मार्कंडादेव मार्ग पर स्थित जलशुध्दीकरण केंद्र से शहर में जलापुर्ति की जाती है. लेकिन वर्तमान स्थिति में जलशुध्दीकरण केंद्र में खराबी आ गयी है. पानी शुध्द नहीं होने के कारण दूषित पानी पीने पर नागरिक मजबूर हो गये है. वहीं दूसरी ओर बारिश के दिनों में दूषित पानी पीने से नागरिकों को विभिन्न बीमारियां होने की संभावना जताई जा रही है. जिससे नगर पंचायत प्रशासन इस ओर गंभीरता से ध्यान देकर जलशुध्दीकरण केंद्र में आयी खराबी को दूरूस्ती कर शुध्द जलापूर्ति करने की मांग द्वारा की जा रही है.

    मशीन की दुरुस्ती करें

    नगर पंचायत द्वारा तैयार किए गए जलशुध्दीकरण केंद्र को अब 15 वर्ष पूर्ण हो गये हैं. जिससे इस केंद्र के विभिन्न यंत्र भी काफी पुराने हैं. जिससे बरसात के दिनों में यंत्र में खराबी आकर नागरिकों को दूषित जलापूर्ति हो रही है. माह भर में दो-तीन बार मशीनी में खराबी आती है. वहीं पाइपलाइन लीकेज होने के कारण शहर में अनेक बार जलापूर्ति प्रभावित होती है. वर्तमान स्थिति में जलशुध्दीकरण केंद्र में आयी खराबी के चलते शहर में दूषित जलापुर्ति की जा रही है. जिससे तत्काल जलशुध्दीकरण केंद्र में आयी खराबी में दुरुस्ती करें, ऐसी मांग शहर के नागरिकों द्वारा की जा रही है.

    जल्द पूर्ववत होगी जलापूर्ति : चौधरी

    चामोर्शी नगर पंचायत के मुख्याधिकारी सतीश चौधरी ने बताया कि, मशीन में आयी खराबी के चलते शहर में दूषित जलापूर्ति हो रही है. लेकिन नगर पंचायत प्रशासन द्वारा जल्द ही नये मशीन लगाकर  शहर में पूर्ववत शुध्द जलापूर्ति की जाएगी.