बरसात के दिनों में भी आरमोरी में जलसंकट, नप प्रशासन को लेकर महिलाओं में रोष

आरमोरी. शहर में विगत कुछ दिनों से पेयजल की समस्या उग्र होती दिखाई दे रही है। शहर के अनेक वार्डो में सप्ताह में एक बार या 2 बार ही पानी उपलब्ध होने से शहरवासियों में हाहाकार मचा है। महिलाओं में नगर परिषद के कार्य को लेकर व्यापक रोष व्यक्त हो रहा है। तत्काल पानी की समस्या हल न होने पर महिला आक्रमक भूमिका अपनाने की चेतावनी दी है। 

तहसील मुख्यालय तथा नगर परिषद का दर्जा प्राप्त आरमोरी शहर में विगत कुछ दिनों से शुद्ध पेयजल के लिए तरसने की नौबत आयी है। शहर के अनेक वार्डो में 4 से 5 दिनों में एक बार पानी उपलब्ध होने से महिलाओं को पानी के लिए परेशानी उठानी पड रही है। शहर के पानी की समस्या विगत अनेक दिनों से कार्य होने के बावजूद यहां के धुरंधर राजनितिक पार्टी के पदाधिकारियों के कार्यक्षमता पर सवाल उठ रहे है। नल में पानी नहीं आता है, मात्र पानी टैक्स उतना ही वसुला जा रहा है। जिससे नागरिकों में प्रशासन के इस कार्य के प्रति व्यापक रोष व्यक्त किया है। नप प्रशासन व स्थानीय पार्षद इनके नियोजनशून्य कारभार के चलते शहरवासियों को पानी के लिए परेशानियां उठानी पड रही है। 

टिल्लूपंप धारकों पर कार्रवाई नहीं 

नल धारकों को शुद्ध जलापूर्ति नहीं होने से बावजूद शहर के अनेक नागरिक टिल्लूपंप लगाकर पानी खींच रहे है। इसमें शहर के अनेक बडे लोगों का भी इसमें समावेश है। मात्र टिल्लूपंप धारकों पर नप प्रशासन द्वारा कार्रवाई नहीं होने से नल धारकों को काफी कम पानी मिल रहा है। जिससे नप प्रशासन इन टिल्लूपंप धारकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

कुएं, हैन्डपंपो पर महिलाओं की भीड

विगत एक माह से सप्ताह में केवल 1 या 2 बार जलापूर्ति होने से नागरिकों को पानी की गंभीर समस्या का सामना करना पड रहा है। जिससे पानी की जरूरत को पूर्ण करने के लिए महिलाएं निजी कुएं तथा हैन्डपंपों पर भीड बढ गई है।