जिप अध्यक्ष ने जानी अतिसंवेदनशील येरमनार गाँव की समस्या

  • गाव में पहुंचनेवाले पहिले जनप्रतिनिधी

पेरमिली. अहेरी तहसील मुख्यालय से 50 किमी की दूरी पर अतिदुर्गम, अतिसंवेदनशिल येरमनार गाव को पहिला बार ही जिप अध्यक्ष अजय कंकडालवार ने भेट देकर वहा के नागरिकों की समस्या जान ली. जब की जनप्रतिनिधी ने पहिली बार ही गाव को भेट देने से ग्रामीणों में खुशी का वातावरण दिख रहा है.

बुधवार को जिला परिषद के अध्यक्ष अजय कंकडालवार ने उक्त परिसर का दौर कर येरमनार में सभा ली. पहिली बार ही एक जनप्रतिनिधि येरमनार गाव जाने से ग्रामीणों ने उनके समक्ष समस्या रखी. वर्ष 2018 का तेंदू बोनस अभी तक नहीं मिला होकर तेंदू पुडा सरपंच व ग्रामपंचायत की ओर से ठेकेदारों को बिक्री किए जाने का जिप अध्यक्ष को बताया. तथा अन्य समस्या अवगत करा दी. जिप अध्यक्ष ने ग्रामीणों के साथ करीबन तीन घंटे चर्चा कर इस क्षेत्र के समस्याओं का निराकरण करने ग्वाही गाववासियों को दी.

सभा के अध्यक्षस्था पर अहेरी पंचायत समिती के सभापती भास्कर तलांडे थे. प्रमुख अतिथी के रूप में उपसभापती गीता चालुरकर, जिप सदस्य अजय नैताम, जिप सदस्य सुनीता कुसनाके, पंस सदस्य शितल दुर्गे, पंस सदस्य योगीता मौहूर्ले, छाया पोरतेट, पेरमिली के सरपंच प्रमोद आत्राम, किस्टापूर के पूर्व सरपंच अशोक येलमूले, येरमनार के ग्रांप सदस्य विजय आत्राम, प्रतिष्ठित नागरिक डोलु मडावी, इंद्रशाह आत्राम, डोलु तलांडी, आडवे आत्राम, जयराम कोंडागूर्ले, दशरथ रामटेके, वारलू मडावी, प्रभाकर झाडे, हिरामण झाडे, वाघा तलांडी, काटा आत्राम, राजू तलांडी, रामा आत्राम, नामदेव कोंडागूर्ले, बाजू पुंगाटी, आशीफ खाँ पठाण, श्रीकांत बंडमवार, तुलशीराम चंदनखेडे, कवीश्वर चंदनखेडे, लक्ष्मण कुलमेथे, व्ही. सी. कोंडागूर्ले, सचिन सिद्दमशेट्टीवार, श्रीकांत दहागावकर, नवलेश आत्राम, बंडु आत्राम उपस्थित थे.

इस क्षेत्र की समस्या हल करने की ओर अनदेखी

पेरमिली से 7 किमी की दूरी पर स्थित येरमानार गाव में ग्रामपंचायत कार्यालय है. इस ग्रामपंचायत में कोरेपली, कवटाराम, मिंचगुंडा आदी गावों का समावेश आता है. मात्र स्वतंत्र के 70 वर्ष के बाद भी इस क्षेत्र का विकास नहीं हुआ. इस क्षेत्र में अनेक प्रमुख समस्या है. इस क्षेत्र में जाने के लिए आज भी पक्की सडके नहीं है. पुल, बिजली, पीने के पाणी की समस्या कायम है. मात्र इसकी ओर स्थानिय ग्रामपंचायत प्रशासन समेत जनप्रतिनिधींओं की भी अनदेखी हो रही है. 

जिप अध्यक्ष के भेट से गाववासीओं में खुशी 

जिला परिषद अध्यक्ष गाव में आने से खुशी हुई है. गाव के निर्मिती से हम मतदान कर जनप्रतिनिधी चुनकर देते है. मात्र स्थानिय क्षेत्र से चुनकर आने के बाद इस क्षेत्र की समस्या हल करने की ओर उक्त जनप्रतिनिधी अनदेखी करते है. मात्र जिप अध्यक्ष अजय कंकडालवार यह  जिला परिषद के पहिले अध्यक्ष है की, उन्होंने हमारे गाव में आकर हमारी समस्या जान ली, ऐसी भावना ग्रामीणों ने व्यक्त की.