2 arrested in cheating case

    • निवेशकर्ताओं को 1 करोड़ 10 लाख 87 हजार 194 रु. का लगाया चूना

    सालेकसा. विदर्भ ग्रामीण पत संस्था साखरीटोला में 1 करोड़ 10 लाख 87 हजार 194 रु. की धोखाधड़ी के प्रकरण में सालेकसा पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इस मामले की शिकायत आमगांव के लेखा परीक्षक राजेश पांडुरंग बावनथडे ने पुलिस में की थी.

    जिसके अनुसार विदर्भ ग्रामीण बिगर शेती पत संस्था अध्यक्ष व एजेंट योगेशसिंह शेरसिंह बैस, प्रल्हाद भाउदास राउत व संस्था की कर्मचारी अल्का योगेशसिंह बैस ने मिलीभगत कर संस्था के निवेशकर्ताओं के साथ धोखाधड़ी की है. इस प्रकरण में पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था. इस प्रकरण का आरोपी पिछले डेढ़ वर्ष से फरार था.

    वह पुलिस की चंगुल में नहीं आ रहा था. उसका उसके परिवार वालों से कोई संबंध नहीं था जिससे वह आना जाना भी नहीं कर रहा था. इस बीच पुलिस ने गुप्त सूचना मिलने पर 20 जुलाई को उसे गिरफ्तार करने में सफलता पाई. इसी तरह दूसरे आरोपी को भी गिरफ्तार किया गया. उक्त योगेशसिंह बैस व प्रल्हाद राउत दोनों आरोपी पुलिस हिरासत में हैं.

    यह कार्रवाई एसपी विश्व पानसरे, एएसपी अशोक बनकर, देवरी के एसडीपीओ जालींदर नालकुल के मार्गदर्शन में सालेकसा के सहायक पुलिस निरीक्षक प्रमोद बघेले, सुनील जानकर, उपनिरीक्षक भीष्मराज सोरते, सहायक फौजदार बडवाईक, जीतेंद्र बिसेन, प्रमोद सोनवाने, खोब्रागडे, यादव, बंसोड़ आदि ने की है.