sand smuggling
File Photo

गोंदिया. जिले के रेत घाटों की सालभर की अवधि में भी नीलामी करने में जिला खनिकर्म विभाग को सफलता नहीं मिली है. राज्य स्तरीय पर्यावरण समिति से रेत घाटों की नीलामी के लिए मंजूरी नहीं मिलने से राजस्व विभाग के 25 करोड़ रु. के राजस्व पर पानी फिर गया है. वहीं रेत तस्करों की गतिविधियां गढ गई है. जिले में 27 रेत घाट है. जिनकी नीलामी से जिला प्रशासन को गत वर्ष 25 करोड़ रु. का राजस्व प्राप्त हुआ था. हर वर्ष मार्च माह के पूर्व ही यह प्रक्रिया पूर्ण की जाती थी. रेत घाटों की नीलामी के लिए प्रदूषण नियंत्रण मंडल अंतर्गत जन सुनवाई कर अनुमति तथा राज्य स्तरीय पर्यावरण समिति की मंजूरी आवश्यक है.

इस बार मार्च माह में कोरोना संक्रमण ने कहर ढा दिया है. जिससे प्रदूषण नियंत्रण विभाग द्वारा रेत घाटों की नीलामी पर जन सुनवाई लेने की प्रक्रिया में विलंब हो गया था. इसके बाद जन सुनवाई की प्रक्रिया 3 माह पूर्व हुई. जबकि राज्य स्तरीय पर्यावरण समिति से मंजूरी नहीं मिलने से रेत घाटों की नीलामी नहीं हो सकी है. जिला खनिकर्म विभाग ने 27 में से 24 रेत घाटों की नीलामी प्रक्रिया पूर्ण की थी. जबकि मंजूरी के अभाव में यह प्रक्रिया आगे नही बढ़ सकी. परिणामस्वरुप रेत घाटों की नीलामी के माध्यम से प्राप्त होने वाली 25 करोड़ रुपयों की बड़ी आय से जिला प्रशासन को हाथ धोना पड़ गया है. 

खाली रेत घाट कौन लेगा

जिले में रेत माफिया बड़ी संख्या में सक्रिय हो गये है. जिले के किसी भी रेत घाट का उत्खनन करने का अवसर उन्होंने नहीं छोड़ा. इसके लिए कुछ पैमाने में राजस्व विभाग की कार्यप्रणाली को जिम्मेदार माना जा सकता है.  नीलामी के पूर्व ही रेत घाट पूर्ण रुप से खाली हो चुके हैं. इनकी यदि नीलामी कर भी दी जाए तो खाली रेत घाटों को कौन लेगा, ऐसा सवाल भी उपस्थित हो रहा है. 

MP की रॉयल्टी पर महाराष्ट्र में उत्खनन

गोंदिया जिले की सीमा मध्यप्रदेश से लगी है. मध्यप्रदेश के बालाघाट जिले का ग्राम किन्ही स्थित रेत घाट महाराष्ट्र से लगा है. जिससे इस क्षेत्र में रेत का अवैध उत्खनन जारों पर हो रहा है. इतना ही नहीं मध्यप्रदेश की रॉयल्टी के नाम पर महाराष्ट्र की वैनगंगा नदी के घाट से बड़ी संख्या में रेत का उत्खनन हो रहा है. इसकी जानकारी भी राजस्व विभाग को है. जिले में इस बार एक भी रेत घाट नीलाम नहीं हुआ है, लेकिन उत्खनन बदस्तूर जारी  है.  नीलामी नहीं होने की स्थिति का लाभ रेत तस्करों ने उठाया है और जरुरतमंदों को अनाप-शनाप भाव में बिक्री की जा रही है. रेत तस्करों के संगठित दल बन गए है. 

फर्जी रॉयल्टी का मामला दर्ज

मध्यप्रदेश राज्य की रॉयल्टी पर महाराष्ट्र के घाटों से रेत का उत्खनन कर उसकी बिक्री करने वालों का भांड़ाफोड़ कर तिरोड़ा पुलिस ने 2 माह पूर्व 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर टिप्पर आदि की जब्ती की थी.