Virus levels lower in children without symptoms than in children with symptoms of Covid-19: research
PTI Photo

  • मौत के आंकड़ों ने बढ़ाया टेंशन

गोंदिया. जिले में कोरोना वायरस का संक्रमण सतत बढ़ रहा है. कोरोना पीड़ित मरीजों की लगातार हो रही मृत्यु के आंकड़ों से गोंदिया जिले के नागरिक दहल उठे हैं. इसमें भी कई धनाड्य परिवार वालों की मृत्यु हो चुकी है. जिससे कोरोना का सामान्य व गरीब नागरिक कैसे मुकाबला कर पाएंगे, यह सवाल खड़ा हो रहा है.

शासकीय मेडिकल कॉलेज की प्रयोगशाला से 25 सितंबर को हासिल हुई रिपोर्ट में 308 कोरोना पाजिटिव पाए गए है. जबकि 303 कोरोना पीड़ितों ने कोरोना पर मात की है. जिससे उन्हें कोविड केअर सेंटरों से छुट्टी दे दी गई है. शुक्रवार को पुन: 3 कोरोना पीड़ित की उपचार के दौरान मृत्यु हो गई है. जिले में अब तक कुल 5,931 पॉजिटिव मरीज पाए गए है. वहीं 3836 व्यक्ति कोरोना मुक्त हो गए है. जिले में कुल 2012 क्रियाशील मरीज है. इसमें से 902 पीड़ित व्यक्ति अपने घर पर उपचार कर रहे हैं.

अब तक 83 की मौत
जिले में कोरोना से अब तक 83 व्यक्तियों की मृत्यु हो गई है. इसी तरह 131 कंटेनमेंट जोन कार्यरत है. उल्लेखनीय है कि जिला मुख्यालय में एक दिन पूर्व ही राज्य के बड़े बड़े मंत्रियों का आगमन होने के बाद उन्होंने जिला स्वास्थ्य विभाग को स्वास्थ्य सेवा में सुधार करने के निर्देश दिए है. मंत्रियों के निर्देशों का कोई असर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों पर नहीं पड़ा है. शासकीय विभाग की स्वास्थ्य सेवा वही ढाक के तीन पात वाली साबित हो रही है.

डा. चंपा सलाम की कोरोना से मृत्यु
आदिवासी नेता डा. हरीशचंद्र सलाम की पत्नी व बीजीडब्ल्यू शासकीय महिला अस्पताल की सेवा निवृत्त मेडिकल ऑफिसर डा.चंपाताई सलाम की कोरोना के कारण मृत्यु हो गई.