school
File Photo

गोंदिया. शालेय शिक्षण विभाग ने 9 वीं से 12 वीं तक कक्षाओं को 23 नवंबर से शुरु किया है. जिससे अब तक जिले में 332 शाला शुरु हो गई है. वहीं 222 शिक्षकों का कोरोना अहवाल पॉजिटिव पाया गया है. शिक्षकों पर ही कोराना का संकट होने से अनेक शाला शुरु नही हुई थी. लेकिन अब धीरे धीरे सभी शालाएं शुरु हो रही है. शिक्षण विभाग ने शिक्षकों को शाला ज्वाईन करने के पूर्व कोरोना टेस्ट करना अनिवार्य किया. जिले में 9 वीं से 12 वीं के विद्यार्थियों को अध्यापन कराने वाले कुल 3,326 शिक्षकों की कोरोना टेस्ट की जा रही है.

जिससे शाला पर कोरोना का संकट मंढरा रहा है. जिले में 332 शाला शुरु होकर 19 हजार 377 विद्यार्थियों ने शाला में उपस्थिति दर्ज की है. यह जानकारी उप शिक्षणाधिकारी प्रदीप समरीत ने दी. शालाओं में 3 हजार 351 शिक्षकों की संख्या है. 21 हजार 479 पालकों ने अपने पाल्यों को शाला में भेजने की अनुमति दी है. जबकि प्रत्यक्ष में 19 हजार 377 विद्यार्थी शाला में लौटे है. पालकों से अनुमति मिल जाने के बावजूद 2 हजार 102 विद्यार्थी शाला में नही आए है.

शिक्षकेत्तर कर्मियों की संख्या 1237 है. इसमें से 1 हजार 172 की कोरोना टेस्ट की गई. 369 शालाओं में से 376 शालाओं को जंतुरहित किया गया है. थर्मल स्कॅनर व अन्य स्वास्थ्य विषयक उपलब्ध वाली शालाओं की संख्या 366 है. शालाओं में किसी भी तरह कोरोना का संक्रमण न फैले इसके लिए 356 शालाओं में शाला समिति की सभा लेकर उसका नियोजन किया गया. उल्लेखनीय है कि अपने पाल्यों को शाला में भेजने की अनुमति देने वाले पालकों का प्रश 52 है.