LPG Cylinder
File Photo

    गोंदिया. एक ओर जहां पेट्रोल-डीजल के बेतहाशा बढ़ते दामों ने महंगाई में आग दी है वहीं दूसरी ओर गैस सिलेंडर की रिकार्ड तोड़ दरवृद्धि के बीच केंद्र सरकार ने सब्सिडी में भी बड़े पैमाने पर कटौती कर दी है. मार्च 2020 में 582 रु. प्रति घरेलू गैस सिलेंडर पर 269 रु. सब्सिडी उपभोक्ताओं के बैंक खाते में जमा होती थी.

    यही सब्सिडी अब जुलाई 2021 में प्रति गैस सिलेंडर 879 रु. हो जाने पर केवल 4.57 रु. की सब्सिडी दी जा रही है. इस तरह एक वर्ष में गैस सब्सिडी में केंद्र सरकार ने 99 प्रश. कटौती कर दी है. विपक्षी पार्टियों के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि यह सरकार आमजनों का मखौल उड़ा रही है.

    डेढ़ वर्ष में 300 रु. बढ़े दाम

    कोरोना के संकट काल में नागरिकों की आर्थिक कमर पहले ही टूट चुकी है. ऐसे में रसोई गैस के दाम आसमान छू रहे हैं. लगातार डेढ़ वर्ष से गैस सिलेंडर के दाम 300 रु. से बढ़े हैं. जून माह में तीन बार गैस के दाम बढ़ाए गए. जिसके कारण दिसंबर 2020 में 627 रु. से मिलने वाला सब्सिडी का गैस सिलेंडर अब जुलाई के माह में 855 रु. का लेना पड़  रहा है.

    उसमें भी सब्सिडी 4 से 5 रु. पर सिमट गई है. सिलेंडर के बढ़ते दामों से नागरिक काफी परेशान हो गए हैं. फरवरी 2020 में 575, मार्च में 582 तथा अप्रैल व मई में 590 रु. सिलेंडर के दाम थे जो अब काफी बढ़ गया है.