Sub District Hospital, Gondia

  • मरीजों के घर जाकर सादा संवाद

गोंदिया. राज्य में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ने से जिले की स्वास्थ्य मशीनरी कैसे सतर्क रहकर काम कर रही हैं, यह देखने के लिए जिलाधीश डा. कादंबरी बलकवडे ने तिरोड़ा स्थित उपजिला अस्पताल का औचक निरीक्षण किया. इस भेंट के दौरान उन्होनें अस्पताल की कामकाज व व्यवस्था का जायजा लिया.

उल्लेखनीय है कि जिले में कोरोना पीड़ित व्यक्ति तिरोड़ा तहसील में अधिक है. इसमें अधिकांश व्यक्ति खाड़ी देशों में रोजगार के लिए गए थे, किंतु कोरोना संक्रमण से वहां के उद्योग व्यापार बंद होने से वापस जिले में आए है. तिरोड़ा तहसील में विभिन्न बीमारी वाले मरीजों का अच्छा उपचार इस उप अस्पताल में होना चाहिए. उन्हें स्वास्थ्य की पर्याप्त सुविधा मिलनी चाहिए. इस दृष्टि से जिलाधीश की अचानक भेंट महत्वपूर्ण साबित हुई है. 

फीवर क्लिनिक का लिया जायजा
उपजिला अस्पताल में किए जाने वाले उपचार व अस्पताल में उपलब्ध सुविधा की जानकारी डा.बलकवड़े ने ली. उन्होनें अधिकारियों से फीवर क्लिनिक में आने वाले मरीजों की भी जानकारी ली है. फीवर क्लिनिक में आने वाले नागरिकों के बुखार, सर्दी, खांसी सहित अन्य बीमारी के लक्षण होने पर उनके उपचार व देखरेख की प्रक्रिया किस तरह की जाती है. इसे उन्होनें समझने का प्रयास किया. इस भेंट दौरे के समय तिरोड़ा के उपविभागीय अधिकारी गंगाराम तलपडे, तहसीलदार प्रशांत घोरुडे, तहसील स्वास्थ्य अधिकारी अभय पाटिल व अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे. 

कंटेनमेंट जोन से आनेवाले वालों पर पैनी नजर
जिलाधीश डा. बलकवड़े ने स्वयं अस्पताल के हर एक स्थान पर जाकर निरीक्षक कर रिकार्ड की जांच की. अस्पताल के कुछ कामों में अनियमितता पाए जाने पर संबंधित पर कार्रवाई प्रस्तावित की. तहसील स्वास्थ्य अधिकारी व उनकी टीम को कंटेनमेंट जोन से आने वाले नागरिकों पर विशेष नजर रखने के निर्देश दिए है. स्वास्थ्य विषयक मशीनरी को और अधिक सक्षम करने जिप के सीईओ, एसडीपीओ तिरोड़ा व जिला शल्य चिकित्सक को एक साथ स्वास्थ्य व्यवस्था की समीक्षा कर उस संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश भी उन्होनें दी है.