पेट्रोल दर वृद्धि से नागरिक त्रस्त, गोंदिया में पेट्रोल 104.73 रु. और डीजल 95.23 रु. लीटर

    गोंदिया.  पेट्रोल, डीजल के दर में सतत वृद्धि हो रही है. गोंदिया में शनिवार को पेट्रोल का रेट 104.73 रु. और डीजल का रेट 95.23 था. इस दर वृद्धि से नागरिकों  को परेशानी हो रही है. पूर्व ही लाकडाउन से रोजगार और अनेक व्यवसाय ठप पडे है. जिससे अनेक नागरिकों के समक्ष जीवन निर्वाह की समस्या निर्माण हो गई है. वहीं अब ईंधन की दरवृद्धि होने से सर्वसामान्य  को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

    लाकडाउन काल में मार्ग पर दौड़ने वाले हजारों वाहन जगह पर खड़े हो गए जिसका असर ईंधन बिक्री पर पड़ा है. जिला मुख्यालय और परिसर में हर दिन पेट्रोल और डीजल की लाखों रु. की बिक्री होती है. लाकडाउन के दौरान ईंधन बिक्री के प्रमाण निम्न स्तर पर आए थे. जिसका असर पेट्रोल पंप मालकों पर पड़ा है. लाकडाउन में शिथिलता मिलने के बाद बाजार में खरीदी बिक्री रुकने से ईंधन डालने से नागरिक बच रहे हैं.

    जिससे ईंधन बिक्री पर असर पड़ने की जानकारी पेट्रोल पंप के संचालकों ने दी है. राज्य शासन ने ईंधन पर टैक्स बढ़ाया है. केंद्र सरकार ने ईंधन के दर बढ़ाने या कम करने के अधिकार पेट्रोलियम कंपनी को दिए हैं. जिससे ईंधन की दरवृद्धि हुई है. पिछले कुछ माह से पेट्रोल और डीजल की श्रृंखलाबद्ध तरीके से वृद्धि हो रही है.

    उल्लेखनीय है कि हर दिन ईंधन के दाम बढ़ रहे हैं. जिससे जहां एक ओर कोरोना काल में अनेक लोगों का रोजगार छिन गया है. वहीं वाहन चलाना जरुरत बन गई है. ऐसे में दिन ब दिन होने वाली ईंधन दर वृद्धि से नागरिकों का सिरदर्द बढ़ गया है. 

    वृद्धि का असर अन्य वस्तुओं की कीमत पर

    ईंधन दर वृद्धि से यातायात खर्च बढ़ता जिससे अन्य वस्तुओं के दाम भी बढ़ते हैं. शासन पेट्रोल और डीजल की कीमत में सतत होने वाली वृद्धि को नियंत्रित करे ऐसी मांग की जा रही है. 

    नागरिक हो गए त्रस्त

    शासन नागरिकों के जेब काट रहा है. पेट्रोल और डीजल के दर में दिन ब दिन वृद्धि होने से नागरिकों के हाल बेहाल हो रहे हैं. पेट्रोल ने 100 रु. का आंकड़ा पार किया है. इसी में अब डीजल भी 100 रु.की ओर बढ़ रहा है. यह सिलसिला यूं ही शुरू रहा तो डीजल जुलाई के प्रथम सप्ताह में 100 रु. से आगे निकल जाएगा.