कनेक्शन कटा, लाइट-पानी बंद , ग्रामीण हुए परेशान, प्रशासन की गंभीर अनदेखी का परिणाम

    गोंदिया. चिखली गट ग्राम पंचायत व कोहलीटोला का मिलाकर कुल 4 लाख 67 हजार 60 रु. का विद्युत बिल बकाया है. इसे लेकर विद्युत विभाग ने विद्युत आपूर्ति खंडित कर दी. जिससे 5 दिनों से गांव में जलापूर्ति बंद है. नागरिकों को पानी के लिए भटकना पड़ रहा है. चिखली गट ग्रापं अंतर्गत आने वाले ग्राम चिखली, कोहलीटोला में जलापूर्ति बंद होने से ग्रामीणों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

    नियमित भुगतान करने वाले नल कनेक्शन धारकों को भी परेशानी हो रही है और नलों में पानी नहीं आने से हैंडपंपों पर भीड उमड़ रही है. बिल नहीं भरने से ग्राम के पथदीपों की भी विद्युत आपूर्ति बंद कर दी गई है. जिससे गांव में अंधेरा छा गया है. ग्रामीणों ने आरोप लगा कि स्थानीय प्रशासन इस गंभीर विषय में अनदेखी कर रहा.

    जिससे वरिष्ठों द्वारा  ध्यान देने की मांग की गई है. इस संदर्भ में सरपंच चित्रा भेंडारकर के अनुसार बिल का भुगतान नहीं करने से यह समस्या निर्मित हुई है. बकाया वसूली कर शीघ्र की जलापूर्ति शुरू की जाएगी. 

    स्थानीय नागरिकों का कहना है कि ग्राम पंचायतों के पथदीप के लिए विद्युत के बिल जिला परिषद के माध्यम से भुगतान किए जाते हैं लेकिन जिप ने गत अनेक वर्षों से पथदीप के बिलों को नहीं भरा है.

      जिससे सभी ग्रापं के पथदीप पूर्ति के करोड़ों रु. बिल बकाया हैं जिससे महावितरण कंपनी ने यदि विद्युत पूर्ति खंडित कर दी तो जिले की सभी ग्रामों में रात के समय अंधेरा छा जाएगा. इस समस्या से ग्रापं के पदाधिकारियों में हड़कंप मच गया है. इतना ही नहीं, पदाधिकारियों ने अधिकारियों के पास पहुंचकर बिलों का भुगतान करने के लिए ज्ञापन सौंपा है. 

    जिले के 900 से अधिक गांवों में संकट

    जिले में 545 ग्रापं हैं जिसमें 900 से अधिक टोलों का समावेश है. वर्तमान में सभी स्थानों पर विद्युत पहुंच गई है जिससे रात के समय ग्राम में प्रकाश रहे इसके लिए मार्गों पर पथदीपों की व्यवस्था की गई है. इन पथदीपों की पूर्ति होने वाली विद्युत बिल का भुगतान करने की जिम्मेदारी जिप पर है. लेकिन जिप ने वर्षों से विद्युत बिलों का भुगतान ही नहीं किया है. इसी बीच महावितरण कंपनी ने विद्युत खंडित करने का अभियान शुरू किया है.

    जिले में अनेक ग्रामों में विद्युत खंडित करने का अभियान शुरू किया गया है. जिले में अनेक ग्रामों में विद्युत खंडित होने से गांव अंधेरे में डूब गए हैं. महावितरण कंपनी के 2 उप विभागीय कार्यालय हैं. देवरी उप विभाग अंतर्गत सालेकसा, आमगांव, देवरी, सड़क अर्जुनी व अर्जुनी मोरगांव तथा गोंदिया उप विभाग अंतर्गत गोंदिया, तिरोडा व गोरेगांव तहसीलों का समावेश है.