Construction Work
Representational Pic

  • घरकुल लाभार्थी को झेलनी पड़ रही परेशानी

तिरोड़ा. रेती नहीं मिलने से तहसील के अनेकों घरकुलों का निर्माण कार्य रूक गया है. जिससे रेती उपलब्ध कराने की मांग की जा रही है. तहसील में प्रधानमंत्री आवास योजना, रमाई घरुकुल योजना, शबरी घरकुल योजना व मवेशियों के लिए गोठा निर्माण योजना को पंस अंतर्गत निर्माण कार्य करने की मंजूरी दी गई है, लेकिन घरों के निर्माण कार्य करने रेती की अत्यंत आवश्यकता है. जिले के घाटों की नीलामी नहीं होने से रेती मिलना कठीन हो गया है.

अधिक दामों में बेच रहे माफिया
रेती माफियाओं की ओर से रेती का धड़ल्ले से परिवहन किया जा रहा है. जिसमें रेती की बिक्री अधिक दर पर की जा रही है. जिससे तहसील के लगभग 4,100 लाभार्थियों को रेती के अभाव में निर्माण कार्य से रूके पड़े हैं. घरकुल लाभार्थियों को तहसीलदार के माध्यम से रेती उपलब्ध कराने की मांग पूर्व जिप सदस्य कैलाश पटले ने की है. इसे लेकर जिलाधीश को ज्ञापन सौंपा है.

नहीं हुई घाटों की नीलामी
पंस के तहत जानवरों के गोठा निर्माण करने 500 गोठों को मंजूरी व प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत 4 हजार लाभार्थियों का चयन किया गया है. अर्जुनी जिप क्षेत्र व कवलेवाड़ा जिप क्षेत्र से वैनगंगा नदी के परिसर में पर्याप्त रेती उपलब्ध है. जिले में रेती की नीलामी नहीं होने से रेती मिलना मुश्किल हो रहा है.