जिले में सबसे पहले प्लाज्मा दान करने का सम्मान डा.देशमुख को मिला

गोंदिया. स्थानीय शासकीय मेडिकल कॉलेज के प्लाज्मा फेरेसिस केंद्र को मंजूरी दी गई है. कोरोना प्रभावितों के लिए प्लाज्मा जीवनदान का काम करता है. इस केंद्र की 7 दिसंबर को शुरुआत कर दी गई है. इसमें सबसे पहले प्लाज्मा दान करने का सौभाग्य शासकीय मेडिकल कॉलेज के बालरोग विशेषज्ञ डा.सुनील देशमुख को मिला है. जिले में कोरोना का संक्रमण कुछ कम नही हो रहा है. जिससे जिला वासियों के लिए यह चिंता का विषय है. शासकीय मेडिकल कॉलेज में कोरोना जांच करने वाली मशीन की स्थापना की गई है. जिससे तत्काल नमूनों का अहवाल प्राप्त हो रहा है.

कोरोना पीडि़त जिन्होंने कोरोना पर मात की, ऐसे लोगों पर रक्त का प्लाज्मा जीवनदान का काम करता है. जिससे शासन ने प्लाज्मा फेरेसिस केंद्र को भी मंजूरी दी है. इसके लिए सभी आवश्यक मशीनरी को स्थापित किया गया है. शासकीय मेडिकल कॉलेज अंतर्गत बीजीडब्ल्यु शासकीय महिला अस्पताल में बाल रोग विशेषज्ञ के रुप में काम करने वाले व सावी बाल अस्पताल के संचालक डा.सुनील देशमुख ने स्वयं पहल कर प्लाज्मा दान किया. उनके रक्त का ग्रुप ओ पॉजिटिव है. इसके बाद डा.देशमुख ने अन्य नागरिकों को भी प्लाज्मा दान करने के लिए आगे आने का आव्हान किया. इस अवसर पर मेडिकल कॉलेज के डीन डा.नरेश तिरपुडे सहित अन्य डाक्टर्स व कर्मचारी उपस्थित थे.