वेतन वृद्धि को लेकर कर्मचारी नाराज

गोंदिया. राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य अभियान अंतर्गत बहुत ही कम वेतन पर काम करने वाले अनुबंधित कर्मचारियों को 15 प्रश वेतन वृद्धि दी गई है. इसी में कोरोना काल के दौरान काम करने पर उन्हें न्याय मिला है. लेकिन पिछले 10 वर्षों से काम करने वाले कर्मचारियों को मनमुताबिक वेतन वृद्धि नहीं मिली है. जिससे उनमें भारी नाराजगी है.

केंद्र सरकार ने पीआईपी 2020-21 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान अंतर्गत कार्यरत कर्मचारियों के वेतन श्रृंखला प्रस्ताव को मंजूरी दी. इसके अनुसार इस श्रृंखला को 1 अप्रैल 2018 से लागू किया गया है. जिसमें राष्ट्रीय ग्रामीण अभियान और राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य अभियान के कर्मचारियों का समावेश है.

वेतन श्रृंखला पर क्रियान्वयन करने 1 अप्रैल 2018 के वेतन को ग्राह्य माना जाएगा. जिससे नए पदस्थ हुए कर्मचारियों को भारी वेतन मिलेगा. इन कर्मचारियों में वेतन वृद्धि से हर्ष व्याप्त है, वहीं दूसरी ओर विगत 10 वर्षों से इसी विभाग में राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान अंतर्गत कार्यरत कर्मियों को कम वेतन मिलने से नाराज दिखाई दे रहे हैं. इस संबंध में पुराने कर्मियों को भी समान वेतनवृद्धि देने के मौखिक आदेश दिए गए हैं, लेकिन लिखित आदेश नहीं होने से उनमें नाराजी है.