ration
File Photo

  • नागपुर से तार जुड़े होने के संकेत

गोंदिया. अपराध शाखा के दल ने चेतन मदान के फ्री ऑक्ट्राय जोन वाले गोडाउन पर छापा मारकर 40 टन चावल जब्त किया है. प्रकरण में शासकीय खाद्यान की कालाबाजारी करने वाले चेतन अर्जुन मदान व उसके साथीदारों के तार गोंदिया व भंडारा जिले के अनेक राईस मिल मालिकों से जुड़े होने के संकेत मिले हैं. यह लोग छत्तीसगढ़ व मध्यप्रदेश में शासकीय चावल की अवैध रूप से खेप पहुंचाते हैं. जांच होने पर गोंदिया के कुछेक नामी व्यापारियों के लपेटे में आने की संभावना है.

नागपुर की अपराध शाखा ने चावल हेराफेरी प्रकरण में 4 वाहनों सहित 7 आरोपियों को गिरफ्तार कर उन्हें लकड़गंज पुलिस को सौंपा है. इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को न्यायालय में पेश कर एक दिन की पुलिस हिरासत ली है. इस बड़े रैकेट का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है.

उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन की अवधि में गरीब व सामान्य परिवारों को सरकार से कम कीमत व नि:शुल्क खाद्यान का वितरण किया गया. इस चावल पर मदान, गुनीयानी, जुनेजा जैसे दलालों के माध्यम से उक्त चावल 7 से 8 रूपए प्रति किलो के अनुसार खरीदी किया गया व बाद में उसे पॉलिश कर प्रचलित ब्रांड वाले बोरों में भरने के बाद यह चावल गोंदिया, भंडारा व वहां से छत्तीसगढ़ तथा मध्यप्रदेश भेजा जाता है. इस तरह सरकार द्वारा गरीबों को वितरित किए जाने वाले चावल को योजनाबद्ध तरीके से खुले बाजार में बिक्री कर लाखों रूपए के वारे-न्यारे किए जा रहे हैं.

यह रैकेट नागपुर में अनेक दिनों से सक्रिय है. इसमें खाद्यान वितरण विभाग के कुछ अधिकारियों की मिलीभगत है. इसमें पहली बार अपराध शाखा के पुलिस अधिकारियों ने इस तरह की कार्रवाई की है. इस प्रकरण में चेतन अर्जुन मदान, श्रीकांत रजनीकांत कक्कड़, उमेश बितेलाल शाहू, मोहम्मद रियाज मोहम्मद कदीर, अकरम खान अहमद खान, प्रदीप प्रभाकर काजवे व विक्की गणेश जगदाले इन 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है.

इस कार्रवाई से खाद्यान विभाग में खलबली मच गई है. विशेष बात यह है कि जिलों में शासकीय गारंटी भाव खरीदी केंद्र पर खरीदी किए गए धान की मिलिंग की जाती है. इसके बाद यह चावल गोडाउन में भेजने की जिम्मेदारी राइस मिल की होती है. राइस मिल वाले मिलिंग किया चावल गोडाउन में न पहुंचाकर उनके पास रखा घटिया किस्म का चावल गोडाउन में देते हैं. जिससे खाद्यान वितरण प्रणाली के तहत राशन दुकानों के माध्यम से वितरण होने वाला चावल घटिया दर्जे का होता है.