hospital
Representational pic

सड़क अर्जुनी. तहसील के ग्रामीण अस्पताल में अधिकांश जगह गंदगी का आलम बना हुआ है. यहां आने वाले गंभीर मरीजों को गोंदिया रेफर किया जा रहा है. गंदगी की वजह से मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. अस्पताल की कई जगहों में पान व खर्रे के धब्बे नजर आते है. शौचालय में पानी की व्यवस्था नहीं है. अस्पताल के पीछे ही पूर्व सामाजिक न्याय मंत्री का निवास है.

2 किमी.दूर विधायक मनोहर चंद्रिकापुरे का निवास है. 22 फरवरी को बाम्हणी के एक मरीज की एंबुलेंस के अभाव में मृत्यु हो गई थी. अस्पताल के पीछे पंस, न्यायालय के अलावा कई स्कूल कालेज है. लेकिन अस्पताल में सुविधाएं नदारद है. प्रहार के नितेश गडपायले, अभिषेक मेश्राम का कहना है कि अस्पताल के शौचालय में गंदगी फैली है. पानी का अभाव है.

24 घंटे डाक्टर की व्यवस्था नहीं होने से समस्या का सामना करना पड़ रहा है. इस अस्पताल में कई प्रकार की दवाएं नही है. कर्मचारियों की भी कमी है. इससे अस्पताल में आने वाले मरीजों को न तो दवा मिलती है और न ही समय पर उपचार मिल रहा है. इस संबंध में प्रहार जनशक्ति पार्टी के कार्यकर्ताओं ने चिकित्सा अधिकारी को ज्ञापन सांैपा. इसके बावजूद स्थिति में सुधार नहीं हुआ. रात में कोई मरीज अस्पताल आता है तो उसे बगैर उपचार किए गोंदिया रेफर कर दिया जाता है.