fraud

    गोंदिया. हर दिन नई नई कंपनियों का प्रसार शुरू हो रहा है. इसमें मार्केटिंग कंपनियों की बाढ़ आ गई है. इस तरह की कंपनियां भारी कमाई  का लालच देकर बेरोजगारों को अपने जाल में फंसा रही हैं. जिले में इसके पूर्व पीयरलेस, जेवीजी, निलांचल, विक्ट्री फायनेंस, हमीद एजेंसी, स्माल स्केल इन्वेस्टमेंट फायनेंस जैसी दर्जनों कंपनियों ने जिले के युवाओं को बड़ी संख्या में  अपने जाल में फांसकर करोड़ों रु. वसूल कर फरार  हो गई. जिससे अनेक युवक तनावग्रस्त हो गए हैं.

    इसी में अब नई नई कंपनियां सुशिक्षित बेरोजगारों को टार्गेट बनाकर कई तरह के लालच दिखाकर उनसे रकम एंठते दिखाई दे रही है. इनके प्रमोटर बेरोजगार युवाओं को मार्गदर्शन कर हर माह 30-40 हजार रु. मिलने का पहले लालच देते हैं. जिससे परिवार के रिश्तेदारों, मित्रों व परिचितों से सुशिक्षित बेरोजगार पैसे बचत करने के लिए चैन सर्कल के माध्यम से पैसों का निवेश करने बताते हैं. बैंकों की अपेक्षा अधिक ब्याज मिलने की लालच में रिश्तेदार भी बैंक में जमा रखी रकम निकालकर उसे इन तथाकथित कंपनियों में जमा कर देते हैं जबकि इसमें धोखाधड़ी पूरी संभावना होती है.

    इसके पूर्व पीयरलेस जैसी बड़ी कंपनी ने अपना जाल संपूर्ण विदर्भ में फैलाया था. जिसमें अनेक बेरोजगार युवक शामिल हुए थे. इतना ही नहीं, करोड़ों रु. का निवेश किया गया था. इसके बाद अब तक वह पैसे नहीं मिले हैं. इस तरह अनेक कंपनियां बेरोजगार युवाओं को टार्गेट कर उनसे लाखों रु. ऐंठ लेती हैं. 

    लालच में फंसकर युवा हो रहे निराश

    अपना जीवन निर्वाह करने के लिए कड़ी मेहनत व परिश्रम से जमा की रकम कंपनी में जमा करने से अनेक लोग हताशा के शिकार हो गए हैं. इसके लिए इन कंपनियों से सतर्क रहने की जरूरत है. इसमें कुछ कंपनियां शुरुआत में चैन सर्कल के माध्यम से एजेंट की नियुक्ति करती है. विभिन्न कंपनियों का जाल जिले में फैला है.

    वे शहर से अब ग्रामीणों में भी पहुंच गए हैं. इसमें कुछ कंपनियां मार्केटिंग कंपनी के लिए कम्प्यूटर ज्ञान के साथ कमाने का मूलमंत्र देती हैं. जबकि कुछ कंपनी में चैन पद्धति से एजेंट बनाना शुरू है.