File Photo
File Photo

  • स्वास्थ्य निरीक्षक की अनदेखी का नतीजा

गोंदिया. गोंदिया के मुख्य बाजार में लोगों व व्यापारियों की सुविधा के लिए सुलभ शौचालय बनाया गया, लेकिन इसमें गंदगी का आलम है. वहीं निर्धारित शुल्क से अधिक वसूलने की शिकायतें भी मिल रही हैं. वर्षों इमारत को रंग रोगन नहीं किया इतना ही नहीं यहां सफाई के नाम पर सिर्फ खाना पुर्ति की जा रही है. जिससे यह पूरा गंदगी से लबरेज है. सफाई को लेकर स्वास्थ्य निरीक्षक अनदेखी साफ नजर आती है. कोरोना को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया जाता तथा समुचित व्यवस्था का सर्वथा अभाव है.

महिलाओं के शौचालय में जाते है पुरुष

महिलाओं के लिए आरक्षित शौचालय में पैसे की लालच में पुरुषों भेज दिया जाता है. कोई महिला आई तो उसे असहज स्थिति में वहां खड़े रहना पड़ता है. शौचालय के दरवाजे जर्जर हो गए हैं, अधिकांश की कुंडिया ही गायब हैं, कुछ की कुंडिया अंदर नहीं लगती. यहां कोई भी दर का सूचना फलक नहीं है. जिससे लोगों से मनमानी वसूली की जा रही है. जो लोग वसूली के लिए बैठते है उनसे हुज्जत कौन करें इसीलिए लोग भी भुगतान कर देते हैं. 

शिकायत मिल रही है कि स्वच्छता व सुविधा का अभाव होने के बावजूद 10-10 रुपये वसूले जा रहे हैं. लोगों को मजबूरी में खुले में जाना पड़ रहा है. कारण पूछने पर बताया जाता है कि पानी की मोटर खराब हो गई है. पानी टैंकर से लाया जा रहा है. सुलभ शौचालय में इस प्रकार की लूट चल रही है, किंतु 100 मीटर की दूरी पर स्थित नप के संबंधित अधिकारी को इसकी खबर न हो अजीब सा लगता है. इसका वसूली का ठेका दिया है, लेकिन कितने समय के लिए दिया गया है. वर्तमान में इसे कौन चला रहा है, इसकी कोई जानकारी वहां प्रदर्शित नहीं की गई. जबकि एक निश्चित समय के लिए यह दिया जाता है.  इस दिशा में तत्काल कुछ किया जाना आवश्यक है.