Court approves sacking of 12 Manpa employees, High Court validates Munde's decision

  • वीडियो कान्फे्रसिंग से होंगे चुनाव आज

गोंदिया. नगर परिषद में सभापतियों के निर्वाचन का मामला गहरा गया है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता सतीश देशमुख, भागवत मेश्राम व कांग्रेस पार्टी के नेता शकील मंसुरी के माध्यम से नागपुर हायकोर्ट में याचिका दाखिल की थी. इस पर न्यायमूर्ति आर.के.देशपांडे ने सुनवाई कर याचिका निरस्त कर दी.

इतना ही नही हायकोर्ट ने राज्य शासन, जिलाधीश व नप को अपना पक्ष रखने के लिए 8 सप्ताह का समय दिया है. इसी के तहत बड़ा रोचक तथ्य सामने यह आया है कि निर्वाचन कराने के बाद हायकोर्ट की आगामी सुनवाई तक किसी भी निर्वाचित पदाधिकारी को पद ग्रहण करने से दूर रखने के लिए कहा गया है.

हायकोर्ट में याचिका कर्ताओं की ओर से एड. भांडारकर ने व शहर परिवर्तन विकास आघाडी के सदस्य सचिन गोविंद शेंडे की ओर से एड.आर.एल.खापरे ने पैरवी की. उल्लेखनीय है कि 16 अक्टूबर को नप विषय समिति के चुनाव वीडियो कान्फे्रंसिंग से कराने के आदेश दिए. जिसे लेकर नप में बखेड़ा खड़ा हो गया है.

इस संबंध में मुख्याधिकारी करण चव्हाण से पुछताछ करने पर उन्होंने बताया कि जिलाधीश के आदेशानुसार पूर्व में जो कार्यक्रम दिया गया है उसी के तहत चुनाव की प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी.