अनदेखी: कामठा केंद्र के अंतर्गत 15 गांवों का समावेश, खाली सीटों से रोष, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कई पद रिक्त

    गोंदिया.  जिला परिषद स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत प्राथमिक  स्वास्थ्य  केंद्र कामठा सहित उपकेंद्रों में  लंबी अवधि से कर्मियों के पद रिक्त हैं. जिससे यहां उपचार के लिए पहुंचने वाले ग्रामीण अंचलों के नागरिकों को परेशानी उठानी पड़ रही है. सतत हो रही अनदेखी के कारण स्वास्थ्य विभाग के प्रति ग्रामीणों में रोष व्याप्त है.

    कामठा प्राथमिक आरोग्य केंद्र के अंतर्गत 6 उपकेंद्र आते हैं. इनमें  वर्तमान में 5 एएनएम (ठेकेदारी) पर कार्यरत हैं. जबकि इन उपकेंन्द्रों में नियमित रूप से सेवा देने वाली 8 एएनएम के पद, 3 एमपीडब्ल्यू , 1 कम्युनिटी हेल्थ अधिकारी के पद कई माह से रिक्त पड़े हुए हैं. इस केंद्र के तहत 15 ग्राम आते हैं लेकिन कर्मचारियों की कमी के अभाव के चलते स्वास्थ्य सेवा   लड़खड़ा हुई है और मरीजों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. न जाने क्यों विभाग इस दिशा में गंभीर नहीं है.

    एक जानकारी के अनुसार कामठा में 1 एएनएम ( ANM ), 1 एमपीडब्ल्यू  (MPW), खातिया में 1 एएनएम 1 एमपीडब्ल्यू ,  परसवाड़ा में1 एएनएम, छिपीया में 1 एएनएम, लंबाटोला ( गिरोला ) में 1 एएनएम, कटंगटोला में 1 कम्युनिटी हेल्थ अधिकारी ( सीएचओ ) 1 एमपीडब्ल्यू 1 एएनएम व  अन्य 8 एएनएम ,3 एमपीडब्ल्यू,1 कम्युनिटी हेल्थ अधिकारी   को मिलाकर कुल 12 पद  रिक्त हैं. उपरोक्त सभी उपकेंद्रों की स्वास्थ्य सेवा कामठा स्वास्थ्य केंद्र से चलती है  लेकिन प्राथमिक केंद्र के साथ ही उपकेंद्रों में भी कर्मियों के अभाव से स्वास्थ्य सेवा प्रभावित हो रही है.

    इसी प्रकार कटंगटोला उपकेंद्र के कम्युनिटी हेल्थ अधिकारी डेपुटेशन पर भेजा था जो   इस केंद्र में नहीं आ रहा है और नागपुर में ही है. जिससे कटंगटोला के मरीजों को छिपिया व कामठा में आकर अपना इलाज करने आ रहे हैं. उस पर भी विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है. कई माह से इन केंद्रों में कर्मियों के पद रिक्त पड़े हुए हैं फिर भी शासन-प्रशासन का और ना जनप्रतिनिधियों  का इस ओर कोई ध्यान नहीं है. उल्लेखनीय है कि उपकेंद्रों की इमारतें तो चमकदार बना दी, लेकिन इन केंद्रों में कर्मियों के पद कई माह से रिक्त पड़े होने से उसका क्या उपयोग? ऐसा  सवाल नागरिक उपस्थित कर रहे हैं.  

    कर्मियों की कमी से मरीजों की सेवा प्रभावित

    कामठा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र  के  वैद्यकीय  अधिकारी डा. विलास येडे ने कहा कि कर्मचारियों की कमी है. जिससे कोविड टीकाकरण के अलावा नियमित व अन्य राष्ट्रीय टीकाकरण कर्मचारियों के कमी के चलते प्रभावित हो रहे हैं. क्षेत्र के मरीजों को सेवा देने में अड़चनें आ रही हैं.

     कई माह से कर्मचारियों के पद रिक्त

    अस्पताल समिति के पूर्व अध्यक्ष व पूर्व जिप सदस्य कुंदन कटारे के अनुसार कामठा केंद्र के अंतर्गत आनेवाले अन्य उप केंद्रों में कई माह से कर्मचारियों के पद रिक्त हैं. जिससे क्षेत्र के जरूरतमंदों  को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इस संबंध में  संबंधित विभाग को अवगत कर मांग की गई है कि तत्काल पदों को भरकर समस्या से छुटकारा दिलायें.