arrest

गोंदिया. शिक्षण संस्था के संचालक रेलटोली निवासी अमर सुरजीतसिंह गांधी (43) व उसके भाई प्रिन्स गांधी (37) का अपहरण व मारपीट की घटना को अंजाम देकर फरार होने वाले मुख्य सूत्रधार पूनाटोली निवासी आरोपी विजय उर्फ राजू दुबे (51) को मुंबई में गिरफ्तार कर उसे यहां लाया गया है. इसके बाद पुलिस ने उसे 16 अक्टूबर को कनिष्ठ स्तर दिवानी न्यायालय की न्यायाधीश पूनसे मैडम के समक्ष पेश किया. जहां उसे 19 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत दी गई है.

उल्लेखनीय है कि अमर गांधी ने स्कूल में नौकरी लगाने के लिए अमित पांडे से 10 लाख रूपए लिए थे, लेकिन उसने बीच में ही स्कूल से नौकरी छोड़ दी थी. इसके बाद वह अमर गांधी से लगातार 10 लाख रूपए की मांग करने लगा था. इस बीच उसने राजू दुबे से संपर्क कर 10 लाख रूपए वसूल करने के लिए योजना बनाई थी.

इसके अनुसार नागपुर व वर्धा से राजू दुबे ने अपने संपर्क के आधार पर अपराधियों को हायर किया. इन सभी आरोपियों ने 9 अक्टूबर को शाम 6.30 बजे गांधी बंधुओं का अपहरण कर कन्हारटोली परिसर में राधे सुपर मार्केट के पास राजू दुबे के घर लेकर गए. जहां दोनों की लोहे की रॉड व लाठियों से जमकर पिटाई की गई.

प्रकरण में पुलिस पूर्व ही 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है. इसमें वर्धा निवासी रितिक रावेकर (19), नागपुर निवासी प्रतीक उर्फ विशाल प्रल्हाद उईके (19), सुरेश तिवारी (19) व पारडी नागपुर निवासी साहिल गजभिये (20) का समावेश है. उक्त आरोपियों की पुलिस हिरासत अवधि समाप्त होने पर  न्यायालय में पेश किया गया. जहां उन्हें 17 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत दी गई है. इसी तरह 3 आरोपी अब भी फरार है. इस प्रकरण की जांच सहायक पुलिस निरीक्षक टिलेकर कर रहे हैं.