Leopard Skin

गोंदिया. नवेगांवबांध पुलिस ने बड़े ही सुनियोजित तरीके से तेंदुए की खाल व अवयव बेचने का प्रयास करने वाले 3 आरोपियों को 5 लाख रु. के माल के साथ 18 नवंबर को भिवखिड़की परिसर से गिरफ्तार किया था व तेंदुए की खाल, कलेजा, घुटने, दांत व पंजे आदि की जप्ती की थी.

प्रकरण को पुलिस ने बाद में वन विभाग को सौंप दिया. उसके बाद 3 आरोपियों के खिलाफ वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 व भारतीय वन अधिनियम 1927 अंतर्गत मामला दर्ज किया गया है.

प्रकरण में बंदी बनाए गए भंडारा जिले के झाडगांव निवासी देवीदास दागो मरसकोल्हे (52), पोहरा निवासी मंगेश केशव गायधने (44) व लाखनी निवासी रणजीत पुरुषोत्तम पोगडे (32) तीनों को सहायक वन संरक्षक व प्रकोष्ठ निष्कासन अधिकारी दादा राऊत के मार्गदर्शन में प्रशिक्षु वन अधिकारी अग्रिम सैनी (भारतीय वन सेवा), वन परिक्षेत्र अधिकारी रोशन दोनोडे, वन रक्षक मिथुन चव्हान व विशाल बोराडे आदि ने सड़क अर्जुनी न्यायालय में पेश किया. जहां उन्हें 23 नवंबर तक वन हिरासत के आदेश दिए गए हैं.