14 migrant laborers killed in Maharashtra by freight train

  • 1 वर्ष पूर्व ही ज्वाइन की थी ड्यूटी

गोंदिया. रेलवे विभाग में कार्य के दौरान रेलवे कर्मचारियों को कई प्रकार से जान जोखिम में डालकर कार्य करना पड़ता है. यदि किसी भी प्रकार की कोई गलती रेलवे कर्मी से भी हो जाए तो जान गंवाने की स्थिति बन जाती है. एैसी ही एक घटना घटी. चुक और विभाग की अव्यवस्थाओं के परिणामस्वरूप गोंदिया के एक सहायक लोकोपायलट वाय.पी. रेड्डी की 11.30 बजे रसमड़ा रेलवे स्टेशन से रीलिव होकर वापस लौटने के दौरान मृत्यु हो गई.

जानकारी के अनुसार रेड्डी 26 जुलाई को गोंदिया से गाड़ी लेकर रात में भिलाई पहुंचे. इसके बाद ड्यूटी निपटाने के बाद  रात 11.30  ट्रेन की पटरियों से पांच नंबर से एक नंबर पटरी पर आने के लिये  चल रहे थे, चूंकि रात का घना अंधेरा था, और अचानक पटरी पर डाऊन लाईन पर मल्टी इंजन आ गया, और कुछ समझ में आता इसके पहले ही रेड्डी इंजन की चपेट में आकर कट गए और उनकी दर्दनाक मौत हो गई.   घटना को लेकर  रेल कर्मियों में गहरा शोक व्याप्त हो गया. 

उल्लेखनीय है कि रेड्डी मुलत: हैदराबाद के रहने वाले थे  और गत वर्ष 2019 में ही वे सहायक लोको पायलट के पद पर चयनित हुए थे और इस समय वे  स्थानीय रेल टोली में निवास कर रहे थे.  लोको पायलट मजदूर कांग्रेस के गोंदिया ब्रांच अध्यक्ष राजेश कुमार की उपस्थिति में  शोक सभा आयोजित की गई. घटना की जांच तथा  दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की गई है.