टीकाकरण में महावितरण अग्रणी, 80 फीसदी कर्मियों का किया गया टीकाकरण

    यवतमाल. महावितरण ने कोविड के खिलाफ टीकाकरण में तेजी लाई है. इसके 79.4 प्रश कर्मचारियों को अब तक टीका लगाया जा चुका है. इसमें 59,799 नियमित व आउटसोर्स कर्मचारी शामिल हैं. अगले एक पखवाड़े में बाकी सभी कर्मचारियों का टीकाकरण पूर्ण करने के निर्देश महावितरण के अध्यक्ष व व्यवस्थापकीय संचालक विजय सिंघल ने फिल्ड अधिकारियों को दिए है.

    पिछले डेढ़ साल से महावितरण का प्रबंधन महावितरण के नियमित और आउटसोर्स कर्मचारियों को कोरोना वैक्सीन उपलब्ध कराने विशेष प्रयास कर रहा है. कोरोना प्रकोप में सुचारू बिजली आपूर्ति के लिए दिन-रात निर्बाध बिजली आपूर्ति प्रदान कर रहे हैं. महावितरण के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक विजय सिंघल ने सभी जिलाधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से संपर्क किया है. 

    34 जिलों के बिजली कर्मियों को फ्रंटलाइन वर्कर मिला दर्जा 

    अब तक 34 जिलों के बिजली कर्मियों को फ्रंटलाइन वर्कर का दर्जा दिया गया है. टीकाकरण में इसका बहुत फायदा हुआ है. महावितरण में कार्यरत 75,323 कर्मचारियों में से 59,799 (79.4 प्रतिशत) नियमित एवं आउटसोर्स कर्मचारियों का अब तक टीकाकरण किया जा चुका है. बारामती में सबसे ज्यादा 91.2 फीसदी, पुणे और कोल्हापुर में 87.84 फीसदी, कल्याण में 85.9 फीसदी, औरंगाबाद में 84.1 फीसदी, कोंकण में 82.2 फीसदी, भांडुप में 81.5 फीसदी और नांदेड़ में 80.9 , जलगांव – 80.2 प्रतिशत, अमरावती – 77.9 प्रतिशत, नागपुर – 74 प्रतिशत, अकोला – 73.2 प्रतिशत, नासिक – 73.5 प्रतिशत, चंद्रपुर – 71.5 प्रतिशत, गोंदिया – 70.4 प्रश और लातूर निर्वाचन क्षेत्र में, 65.9 प्रश कर्मचारियों का टीकाकरण किया जा चुका है. शेष कर्मचारियों का टीकाकरण स्थानीय कार्यालयों द्वारा अनुश्रवण किया जा रहा है.

    महावितरण के लगभग 47 प्रश कर्मचारियों को एक महीने पहले टीका लगाया गया था. बिजली कर्मियों का दिन-प्रतिदिन का काम स्वास्थ्य और पुलिस विभागों की तरह आवश्यक है, क्षेत्रीय मुख्य अभियंताओं को स्थानीय स्तर पर कोरोना के प्रतिबंधात्मक टीकाकरण के लिए प्रयास करने और दैनिक समीक्षा करने के निर्देश दिए गए थे. महावितरण के अध्यक्ष व व्यवस्थापकीय संचालक विजय सिंघल ने खुद पहल की और सीधे जिलाधिकारी से संपर्क कर प्रयास शुरू किया. नतीजा यह हुआ कि एक महीने में टीकाकरण कराने वाले कर्मचारियों की संख्या 79.4 फीसदी हो गई है. अब तक 4,058 कर्मचारियों को वैक्सीन की दूसरी खुराक भी दी जा चुकी है. दूसरी खुराक के लिए समय सीमा के अनुसार टीकाकरण किया जा रहा है.

    4 सदस्यीय कोरोना समन्वय प्रकोष्ठ का गठन 

    कर्मचारियों के टीकाकरण की निगरानी के लिए निर्वाचन क्षेत्र और मुख्यालय स्तर पर 4 सदस्यीय कोरोना समन्वय प्रकोष्ठ का गठन किया गया है. कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए अन्य सभी कर्मचारियों को अगले 15 दिनों के भीतर टीका लगाया जाना चाहिए. भले ही उन्हें टीका लगाया गया हो, सभी इंजीनियरों और कर्मचारियों को ग्राहक सेवा प्रदान करने और अपने स्वास्थ्य की उचित देखभाल करने के लिए कोविड-19 के नियमों का सख्ती से पालन करना चाहिए, ‘अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक विजय सिंघल ने आवाह‍्न किया.