Mahavitaran, Gondia, Andolan

  • विद्युत कर्मियों के 24 संगठनों ने एक साथ किया विरोध

गोंदिया. केंद्र सरकार ने विद्युत उद्योग को निजीकरण करने नीति बनाई है. जिससे उत्तर प्रदेश व केंद्र शासित प्रदेशों में शुरू की गई निजीकरण की प्रक्रिया के खिलाफ नेशनल कोआर्डीनेशन एम्प्लाइज इंजीनियर कमेटी ने देशभर के 25 लाख विद्युत कर्मचारी, अभियंता व अधिकारियों को संपूर्ण देशभर में प्रदर्शन करने का आह्वान किया. जिससे रामनगर स्थित मुख्य अभियंता कार्यालय, कार्यकारी अभियंता देवरी सहित अन्य स्थानों पर अनेकों विद्युत कर्मियों ने आंदोलन कर निजीकरण अपना विरोध दर्ज किया है.

इस अवसर पर गोंदिया में जोन सचिव विजय चौधरी, वर्कर्स फेडरेशन व इंजीनियर एसो. के खुशाल सोनी, तकनीकी संगठन के रविंद्र फुलमाली व वर्कर्स फेडरेशन के विवेक काकडे ने सभा को संबोधित किया. विद्युत विभाग के अनेक संगठन विद्युत उद्योग के अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

आज जो उत्तरप्रदेश व अन्य राज्यों में हो रहा है वह कल महाराष्ट्र में हो सकता है. इसकी कल्पना कर्मचारियों को है. आंदोलन में महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रिसिटी वर्कर्स फेडरेशन (आइटक), महाराष्ट्र राज्य विद्युत कामगार ग्रेस (इंटक), सबार्डिनेट इंजीनियर्स एसो. विद्युत क्षेत्र तांत्रिक कामगार यूनियन, महाराष्ट्र राज्य विद्युत तकनीकी कामगार संगठन सहित विभिन्न 24 संगठनों के कर्मचारी व अधिकारी शामिल हुए है.