Zilla Parishad member's name missing from voter list
File Photo

  • चुनाव आयोग व जिलाधीश से की शिकायत

गोंदिया. जिले में जल्द ही जिला परिषद व नगर पंचायत के चुनाव होने है. इसमें कुछ लोगों ने मतदाताओं की संख्या बढ़ाने के लिए 18 वर्ष से नीचे वाले मतदाताओं के नाम मतदाता सूची में दर्ज कराए जा रहे हैं. इस तरह का मामला सड़क अर्जुनी तहसील में सामने आया है. इस घटना की शिकायत सबूतों सहित राज्य चुनाव आयोग व जिलाधीश से की है.

2 महीने बाद होने है नपं चुनाव

सड़क अर्जुनी में 2 महिने बाद नपं के चुनाव है. इसमें अपने विजय का मार्ग सरल हो, इसके लिए कुछ लोगों ने फर्जी मतदाताओं के नाम मतदाता सुची में दर्ज कराए है. सडक अर्जुनी स्थित मतदाता सुची में तहसील के 8 से 10 गांवों के 150 से अधिक मतदाताओं का सुनियोजित तरीके से समावेश किया गया है.  

इस बात का खुलासा होने पर कुछ नागरिकों ने प्रकरण की शिकायत जिलाधीश से की थी. प्रकरण को लेकर परिसर में तरह तरह की चर्चाए व्याप्त हैं. इसी बीच अब पुन: आनलाइन तैयार की जा रही मतदाता सूची में 18 वर्ष से नीचे वाले मतदाताओं के नाम दर्ज कराने की बात सामने आई है. विशेष बात यह है कि मतदाता सूची में आनलाइन या ऑफलाईन पंजीयन कराते समय उसमें सबूत संलग्न करना आवश्यक है, इन सबूतों की पड़ताल करके ही उनके नाम मतदाता सूची में दर्ज करना आवश्यक है, लेकिन 2 मतदाता यह 18 वर्ष से कम आयु वाले होने के बावजूद मशीनरी ने उनके नाम मतदाता सूची में दर्ज किए है. 

तहसील कार्यालय में मची खलबली

इस घटना की पूर्व सभापति दिनेश अग्रवाल को जानकारी मिलने पर उन्होंने सबूतों के साथ राज्य चुनाव आयोग, जिलाधीश व तहसीलदार से शिकायत की है. तहसील कार्यालय में भी खलबली मच गई है. जिससे तत्काल संबंधित मतदाताओं को आवेदन कर मतदाता सूची से अपने नाम कम करने की सूचना दी है. इस प्रकरण में शुरुआत में 2 नाम सामने आए है, इस तरह के और भी नाम होने की संभावना होने से इंकार नहीं किया जा सकता है. जिससे इन मतदाता सूची के पुन: सर्वेक्षण कर मतदाता सूची में गलत नाम डालने वालो पर कार्रवाई करने की मांग चुनाव आयोग से  की है.