Water Crisis

  • नप प्रशासन की अनदेखी

गोरेगांव. नगर पंचायत में प्रशासक की नियुक्ति के बाद से शहर में लापरवाही की घटनाएं रोज सामने आ रही हैं. शहर में स्थित सभी व्यवस्थाएं चरमरा सी गई है. नपं की ओर से शहर वासियों की समस्याओं को दरकिनार करने का कार्य किया जा रहा है. शिकायतों पर अब यहां कोई सुनवाई नहीं है.

पीने के पानी के लिए भटक रहे लोग जिसका एक उदाहरण प्रभाग क्रमांक 15 में इन दिनों चल रही पीने के पानी की समस्या है, लेकिन यहां स्थित बोरवेल क्रमांक 82 का हैंडपंप एक महीने से खराब पड़ा है. जिसकी शिकायत नपं प्रशासन को कई बार की गई पर कोई ध्यान नहीं दिया गया. जिसके चलते हैंडपंप का दुरुस्ती कार्य नहीं किया गया.

पानी के लिए भटक रहे लोग

नागरिकों को इस ठंड के मौसम में भी पानी के लिए भटकना पड़ रहा है. प्रभाग क्रमांक 15 में चौधरी किराना से लगकर बोरवेल प्रभाग 15 , 16, तथा 17 के नागरिकों के लिए काफी सुविधा जनक है. तीनों ही प्रभागों के निवासी कई वर्षों से पीने के लिए इसी बोरवेल के पानी का उपयोग करते आ रहे हैं. इस बोरवेल की पाइप-लाइन अंदर से सड गई है.

हैंडपंप भी जमीन के अंदर चला गया है. जिससे पानी का बाहर आना बंद हो गया है. शिकायत के बाद भी  प्रशासन ने  अब तक कोई ध्यान नहीं दिया. उसी तरह से शहर में स्थित ज्यादातर आरो मशीनें भी रखरखाव के अभाव में खराब होकर धूल खा रही हैं. नपं प्रशासन से इस ओर ध्यान देने की मांग नागिरकों ने की है.