प्रॉपर्टी टैक्स के अभाव में नप का खजाना खाली

कोरोना वायरस के प्रभाव से संपूर्ण देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है. इसी तरह का कुछ हाल नप का भी हो गया है. इस बार टैक्स वसूली केवल 37 प्रश. हुई है. जिससे नप का खजाना खाली है.

गोंदिया (का). कोरोना वायरस के प्रभाव से संपूर्ण देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है. इसी तरह का कुछ हाल नप का भी हो गया है. इस बार टैक्स वसूली केवल 37 प्रश. हुई है. जिससे नप का खजाना खाली है. इसका सीधा असर सामान्य निधि से होने वाले विकास कामों पर पड़ रहा है. नप की गाड़ी चलाने के लिए प्रॉपर्टी टैक्स की वसूली से होने वाली आय से नप सामान्य निधि से अधिकांश काम करा लेती है. लेकिन इस बार कोरोना के आ जाने से भारी उलटफेर हो गया है.

उपाय योजना के रुप में देश में लॉकडाउन करना पड़ा. जिससे सभी उद्योग, व्यापार बंद पड़ गए थे. नप के टैक्स विभाग में कार्यरत मोहरीर को अनेक प्रकार के काम दिए जाते है. जिससे उन्हें आवश्यक प्रमाण में टैक्स वसूली के काम करते समय कठिनाई होती है. इसी बीच गणेश नगर परिसर में कोरोना पीड़ित मरीज पाए जाने पर एंट्री पाईंट पर मोहरर की ड्युटी लगाई गई थी. इसके बाद अब बाजार शुरु होने से दूकानदारों द्वारा नियमों का पालन हो रहा है या नहीं यह देखने के लिए दल में मोहरीर का समावेश है.

इसी तरह मुंबई, पुणे से आने वाले लोगों की खोज कर उन्हें क्वारंटाइन करने के काम मोहरीर को दिए गए है. इस संबंध में मुख्याधिकारी चंदन पाटिल ने बताया कि कोरोना की वजह से प्रॉपर्टी टैक्स की वसूली नहीं हुई है. जिसका असर कामकाज पर दिखेगा. इसके लिए उन्होंने शहरवासियों से प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान कर सहयोग करने की अपेक्षा व्यक्त की है. (एजेंसी)