धान का बोनस मंजूर, उपलब्ध कराए 470 करोड़

    गोंदिया . खरीफ मौसम में जिला मार्केटिंग फेडरेशन और आदिवासी विकास महामंडल के धान खरीदी केंद्रों पर धान की बिक्री करने वाले किसानों को प्रति क्विंटल 700 रु. बोनस देने की घोषणा महाविकास आघाड़ी सरकार ने की थी. लेकिन बोनस मिलने में विलंब हो रहा था. राज्य सरकार ने बुधवार को बोनस के प्रथम चरण में 470 करोड़ रु. की निधि उपलब्ध करा दी है.

    किसानों को गारंटी भाव की अपेक्षा कम भाव न मिले इसके लिए जिला मार्केटिंग फेडरेशन व आदिवासी विकास महामंडल के माध्यम से धान की खरीदी की जाती है. गत खरीफ मौसम में शासकीय धान खरीदी केंद्रों पर धान की बिक्री करने वाले किसानों को प्रति क्विंटल 700 रु. बोनस 50 क्विंटल तक देने की घोषणा की गई थी. इसक लिए सांसद पटेल किसानों को बोनस दिलाने केलिए शुरुआत से ही प्रयासरत थे. चर्चा के बाद 30 जून को प्रथम चरण में 450 करोड़ रु. की निधि बोनस के लिए आवंटित की गई है.

    इसी तरह शेष निधि आगामी 15 दिनों में उपलब्ध करा दी जाएगी. उल्लेखनीय है कि पूर्व विदर्भ के गोंदिया, भंडारा, गड़चिरोली, नागपुर व चंद्रपुर इन 5 जिलों में सबसे अधिक धान फसल का उत्पादन लिया जाता है. इसमें लगभग 5 लाख किसान शासकीय धान खरीदी केंद्रों पर धान की बिक्री करते हैं. इन सभी किसानों को अब बोनस की रकम मिलेगी. जिससे किसानों को बड़ी राहत मिल गई है.