Teachers rahat

  • शिक्षकों का नक्सल भत्ता मंजूर

सड़क अर्जुनी. आदिवासी नक्सलग्रस्त क्षेत्रों में काम करने वाले सभी शिक्षक कर्मियों को नक्सल भत्ता देने की घोषणा की गई है. इससे राज्य के लाखों कर्मचारियों को लाभ मिलेगा.

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र राज्य प्राथमिक शिक्षक गोंदिया की ओर से जिले के सभी कर्मचारियों को अधिकतम 1,500 रु. नक्सल भत्ता देने  की मांग शासन से लगातार की जा रही है. इस संदर्भ में 6 माह से ग्राम विकास मंत्री की अध्यक्षता में विधायक मनोहर चंद्रिकापुरे के प्रयास से उपसचिव पं.जाधव के साथ शिक्षक समिति की विशेष बैठक आयोजित हुई. संगठन के उपाध्यक्ष किशोर डोंगरवार व जिला सहसचिव संदीप तिडके उपस्थित थे. 

16 मार्च को उपसचिव पं.जाधव ने विभागीय आयुक्त अमरावती को एकमुश्त 1,500 रु. नक्सल भत्ता देने के संदर्भ में पत्र  जारी  किए. कक्ष अधिकारी भुजबल ने 17 जून को विभागीय आयुक्तों को मेल करते हुए आदिवासी नक्सलग्रस्त क्षेत्रों में काम करने वाले सभी कर्मियों को मूल वेतन की 15 प्रश न्यूनतम 200 व अधिकतम 1,500 तक नक्सल भत्ता दिए जाने के निर्देश दिए. इस घोषणा से 1 जनवरी 2006 से अब तक का बकाया भत्ता भी उन्हें मिलेगा. इसका लाभ राज्य के लाखों कर्मचारी को मिलेगा.

नक्सलभत्ते के संदर्भ में शिक्षक समिति की मांग पूर्ण होने पर ग्राम विकास विभाग व मनोहर चंद्रिकापुरे  का राज्य प्राथमिक शिक्षक समिति जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित, जिला महासचिव एल.यू. खोब्रागडे, उपाध्यक्ष किशोर डोंगरवार, जिला सहसचिव संदीप तिडके, उपाध्यक्ष विनोद बडोले, कोषाध्यक्ष पी.आर.पारधी, एन.बी. बीसेन, सुरेश कश्‍यप, शेषराव येडेकर, दिलीप लोधी, कैलाश हांडगे, गजानन पाटणकर, विनोद बहेकार, जी.एम.बैस, सतीश दमाहे , टी.आर.लिल्हारे, डी.वी .बहेकार, संदीप मेश्राम, पी. एन. बडोले, बाडू वालदे, वाय.एल.लांजेवार ,राजू बोपचे, चौधरी काका, दिनेश डोंगरे, नोकलाल शरणागत, अशोक बिसेन,रोशन मस्करे, गजानन पाटणकर, डी.वी. बहेकार संदीप मेश्राम, बी. एस. केसाले, आर.एच. वाघाडे, सुनील बावणकर, पी.के. पटले, वाय एल लांजेवार, अनिल टेंभुर्णीकर आदि ने आभार माना है.