Cow Rescue
File Photo

  • पड़ोंसी राज्यों के तस्कर सक्रिय

गोंदिया. महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश व छत्तीसगढ़ राज्य की सीमा पर चंगेरा, काटी, रावणवाड़ी, कामठा परिसर में इन दिनों अन्य राज्यों के मवेशी तस्कर सक्रिय है. बड़े पैमाने पर साप्ताहिक मवेशी बाजारों से कृषि उपयोगी जानवरों की खरीदी कर अन्य महानगरों में स्थित कत्लखानों में भेज रहे हैं.

पुलिस की ओर से अनेक बार अवैध रूप से मवेशियों की खरीदी करने वालों पर कार्रवाई करने के बावजूद भी तस्करी का धंधा बेखौफ चल रहा है. तस्कर काटी साप्ताहिक मवेशी बाजार व अन्य मवेशी बाजारों में अधिक दामों पर मवेशियों की खरीदी करते हैं. सुनसान इलाके में एकत्रित कर बाद में हैदराबाद, रायपुर, नागपुर की ओर रात के अंधेरे में कच्चे मार्गों का उपयोग कर ले जाते हैं.

कृषि उपयोगी दुधारू मवेशियों की तस्करी इन दिनों बड़े पैमाने पर हो रही है. जिस वजह से किसान अब साप्ताहिक मवेशी बाजारों से कृषि उपयोगी व दुधारू मवेशियों की खरीदी करने में असमर्थ नजर आ रहा है.

साप्ताहिक बाजारों से करते है खरीदी

कत्लखाने में बड़ी तादाद में मवेशी जा रहे है. जिससे यह स्थिति निर्मित हुई है. काटी, चंगेरा, कोरणी परिसर में जिले के साप्ताहिक मवेशी बाजारों से अन्य राज्य के मवेशी व्यापारी खरीदी कर ट्रकों में लादकर अन्य महानगर भिजवाते हैं. पुलिस द्वारा इन व्यापारियों पर प्रतिमाह कार्रवाई कर सैकड़ों की तादाद में कत्लखाने में जाने से मवेशियों को बचाया जाता है. बावजूद कुछ दिनों के बाद फिर से व्यापारी सक्रिय होकर अपना व्यापार बेखौफ चलाते है. रावणवाड़ी के थानेदार सचिन वांगडे के मवेशियों का व्यापार करने वाले व्यापारियों की जांच की जाती है. हर माह रावणवाड़ी पुलिस द्वारा इन अवैध मवेशी कारोबारियों पर कार्रवाई की जाती है.