Summer

    तिगांव (आमगांव). अभी मार्च का आधा माह ही बीता है और सूरज की तपिश बढ़ गई है. पारा 37 डिग्री को छूने लगा है. दोपहर के समय तो गर्मी अपनी पूरी चरम पर होती है. इसका एक बहुत बड़ा कारण हर तरफ सीमेंट कांक्रीट का जाल बिछता जा रहा है, पेड़ पौधे कम होते जा रहे हैं. आमगांव से होकर हाइवे मार्ग का निर्माण हो रहा है. जिसकी वजह से गोंदिया मार्ग के अनेक पुराने पेड़ काट दिए गए. जिसकी वजह से पर्यावरण को हानि पहुंची है. तापमान दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है.

    ग्रामीण क्षेत्रों में पहले गर्मी के मौसम में रात में शीतल वातावरण रहता था. तब कूलर की जरूरत नहीं हुआ करती थी, लेकिन अब हर घर में गर्मी से बचने के लिए कूलर की जरूरत महसूस होने लगी है. उसका कारण है पहले गांव में कच्चे मकान हुआ करते थे. मगर अब हर जगह सीमेंट कांक्रीट के पक्के मकान बनते जा रहे हैं, रोड रास्ते भी सीमेंट कांक्रीट के बन रहे हैं. इसकी वजह से तापमान में अत्यधिक वृद्धि हो रही है.

    कूलर बिक्री शुरू

    अभी मार्च माह आधा ही गुजरा है, अभी से कूलर की जरूरत महसूस होने लगी है. बाजार में कूलर की बिक्री शुरू हो चुकी है. कूलर में लगने वाले खस की दूकानें सजने लगी हैं. 

    जोर-शोर से लगे मिस्त्री कामों में 

    कूलर दुरुस्ती करने वाले मिस्त्री अपने कामों में जोर-शोर से भिड़ गए हैं. कूलर सुधारने के लिए नागरिकों को मिस्त्रियों का इंतजार करना पड़ रहा है. 

    गन्ना, जूस व आइसक्रीम की दूकानें सजी 

    बाजार में गन्ना, जूस व आइसक्रीम की दूकानें सज गई हैं. दोपहर में इन दूकानों में अच्छी खासी भीड़ दिखाई देती है. गमछा टोपी की दूकानों में भीड़ दिखाई देने लगी है.

    कूलर, पंखे व एसी की मांग बढ़ी

    महालक्ष्मी इलेक्ट्रॉनिक्स आमगांव के संचालक मोहन अग्रवाल ने बताया कि पिछले 15 से 20 दिनों से तापमान में जो वृद्धि हुई है उससे कूलर, पंखे व एसी की मांग बढ़ गई है. पिछले वर्ष की तुलना में इस बार कूलर के दामों में 15 से 20 प्रश. की वृद्धि हो गई है. उसका कारण तांबा, लोहा व प्लास्टिक के रेट में वृद्धि हुई है.