Funeral Bajrang Dal

गोंदिया. कोरोना का संक्रमण बहुत बढ़ गया है. शासकीय मेडिकल कॉलेज व अन्य निजी अस्पतालों से कोरोना मरीजों की मृत्यु के बाद कर्मचारी पीपीई किट में शव मोक्षधाम लेकर आते हैं, लेकिन मृतक के परिवार वाले अंतिम क्रियाक्रम करने मोक्षधाम नहीं पहुंच रहे हैं और उसे लेकर बजरंग दल के कार्यकर्ता मृतकों की अंत्येष्टि रस्म पूरी कर रहे हैं. मोक्षधाम में हर दिन दो से तीन कोरोना मरीजों के शव आ रहे हैं जिनका बजरंग दल के संयोजक देवेश मिश्रा ने स्वयं उपस्थित रहकर अंतिम संस्कार किया है.

कोरोना की महामारी परिवार वालों के लिए कठीन परीक्षा की घड़ी है. लेकिन वह भी अंतिम क्रियाक्रम जैसे कार्य से अपने आपको दूर रख रहे है. इसके लिए शासन की गाइड लाइन भी जिम्मेदार है. मृतक का शरीर पूरी तरह से सील कर दिया जाता है. उसे खोलने की मनाही है, खोलने पर संक्रमण बढ़ सकता है, इसलिए वैसे ही शव को दफन या जला दिया जाता है. जबकि इस कार्य में सर्व समाज मोक्षधाम सेवा समिति के देवेश मिश्रा, अंकित कुलकर्णी, योगेंद्र सोलंकी, कृष्णकांत बिसेन, गणेश जागजोड, प्रकाश रक्सेल सहित अन्य कार्यकर्ता सहयोग कर रहे है.

इस विषय में देवेश मिश्रा ने बताया कि विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल द्वारा संचालित सर्व समाज मोक्षधाम सेवा समिति के माध्यम से कोरोना पीडि़तों की मृत्यु पर उनकी अंत्येष्टी मोक्षधाम में की जा रही है. सफाई अभियान के साथ ही कोरोना से मरने वाले परिवार का साथ देते है. इतना ही नही अंत्येष्टी के लिए लकड़ी व अन्य सामग्री की भी व्यवस्था की जा रही है.