Nagpur-Jabalpur broad gauge
File Photo

  • 25 को गोंदिया-जबलपुर ब्राडगेज के लोकार्पण की संभावना

गोंदिया. गोंदिया-जबलपुर ब्रॉडगेज पर ट्रेन अब दिसंबर में किसी भी दिन दौड़ने लगेगी. रेल प्रशासन इसे लेकर पूरी तरह सज है. जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार चाहती है की ब्राडगेज का विधिवत शुभारंभ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई के जन्मदिन 25 दिसंबर से किया जाए. जबकि इस मार्ग पर अब नियमित माल गाड़ियों का परिचालन हो रहा है. गत दिनों मुख्य सुरक्षा आयुक्त ने भी ट्रैक का निरीक्षण कर फिटनेस को प्रमाणित कर दिया है.

युद्धस्तर पर चल रही तैयारियां

गोंदिया-जबलपुर-गोंदिया के बीच रेल अमान परिवर्तन का काम पूरा होने के बाद अब इस मार्ग पर यात्री ट्रेनों का परिचालन करने की तैयारी शुरू हो गई है. मेमू की एक नई रैक नैनपुर रेलवे स्टेशन पहुंच गई है. जिसे गोंदिया-जबलपुर के बीच चलाया जाएगा. इस नई रैक के आने के बाद दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में गोंदिया से जबलपुर के बीच पैसेंजर ट्रेन के शुरू करने की तय करने को लेकर प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है. नई रैक के साथ गोंदिया-जबलपुर के बीच इस मेमू ट्रेन को परिचालित कर नए रेलमार्ग का लोकार्पण करने के कार्यक्रम को अंतिम स्वरुप देने की तैयारी जारी है.

कम होगी 274 किमी की दूरी

बल्लारशाह से वर्धा, नागपुर-इटारसी होते हुए जबलपुर 753 किमी का सफर तय करना पड़ता है. वहीं वाया गोंदिया यह सफर मात्र 479 किमी होगा. इसमें सीधे-सीधे 274 किमी की दूरी कम हो जाएगी. रेलवे बोर्ड की मुहर लगते ही जबलपुर से दक्षिण भारत जाने सबसे कम दूरी का रेल मार्ग खुल जाएगा व 274 किलोमीटर की दूरी कम हो जाएगी.

नैनपुर में खड़ी है नई रैक 

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने आठ कोच वाली मेमू की रैक नैनपुर भेजी है जो इस समय नैनपुर रेलवे स्टेशन की साइडिंग पर खड़ी है. सिल्वर-नीले रंग के मेमू में आगे-पीछे इंजन हैं, बिजली से चलने वाली मेमू ट्रेन का ट्रॉयल रन लिया जा रहा है. इसकी गति व रखरखाव को लेकर  निगरानी की जा रही है. परीक्षण के बाद यह मेमू ट्रेन पटरी पर दौड़ने के लिए तैयार बताई जा रही है, यह ट्रेन पहले पैसेंजर ट्रेन के समय पर जबलपुर से चलकर गोंदिया तक ले जाने का प्रस्ताव है. दोनों छोर से मेमू चलाने के लिए रेल बोर्ड से और रैक मांगे गए हैं.

लॉकडाउन में रेल नेटवर्क से कटा आदिवासी अंचल

ब्रिटिशकालीन इस रेलखंड पर अमान परिवर्तन का काम पूरा होने के बाद जबलपुर-नैनपुर-चिरईडोंगरी तक डीजल पैसेंजर ट्रेन शुरू की गई थी. लॉकडाउन के समय ट्रेन सेवा बंद है. समनापुर-लामता के बीच ब्रॉडगेज के काम में देरी से नक्सल प्रभावित बालाघाट जिला भी संभागीय मुख्यालय से लंबे समय से सीधी रेल मार्ग से कटा है. इस काम के पूरा होने और बालाघाट-गोंदिया के बीच कई वर्ष से ब्रॉडगेज ट्रेन चलने से जबलपुर से अब गोंदिया तक ब्रॉडगेज का सीधा नया मार्ग बन गया है. नैनपुर-मंडला रेलखंड में चिरई-डोंगरी से मंडला फोर्ट तक अमान परिवर्तन का कार्य भी पूरा हो गया है. रेल सुविधा में पिछड़े इन क्षेत्रों में ब्रॉडगेज लाइन बनने के बाद जबलपुर तक ट्रेन सेवा शुरू होने की प्रतीक्षा है. 

रेलवे बोर्ड के आदेश की प्रतीक्षा

दक्षिण पूर्व मध्य रेल के एक प्रवक्ता के अनुसार  मेमू की रैक नैनपुर भेजी गई है. जबलपुर-बालाघाट के बीच ब्रॉडगेज का काम पूरा हो चुका है. ट्रेन के संचालन को लेकर अंतिम निर्णय रेल बोर्ड से होगा. निर्देश प्राप्त होते ही इस मार्ग में ट्रेन का संचालन शुरू कर दिया जाएगा.