Muroom
File Photo

गोरेगांव. स्थानीय पंस परिसर में इन दिनों सार्वजनिक शासकीय वाचनालय का निर्माण कार्य शुरू है लेकिन एक ओर यह वाचनालय पहले से निश्चित स्थान को लेकर चर्चा में है. वहीं दूसरी ओर 14 दिसंबर को वाचनालय के फाउंडेशन निर्माण कार्य में बिना अनुमति से अवैध मुरम का उपयोग करने का मामला सामने आया है. जिससे निर्माण कार्य पर भी प्रश्न उठने लगा है.

जानकारी के अनुसार जिप बांधकाम विभाग द्वारा 12 लाख रु. की निधि से विद्यार्थियों को वाचन लेखन में सहूलियत के उद्देश्य से पंस परिसर में शासकीय सार्वजनिक वाचनालय का निर्माण किया जा रहा है. लेकिन परिसर के अंतिम कोने में यह वाचनालय का निर्माण होने से यह पहले से ही निश्चित किए गए स्थान को लेकर चर्चा में है. ऐसे में बिना अनुमति मुरूम का उपयोग करने से अब निर्माण कार्य भी चर्चा में आ गया है.

जिसमें ठेकेदार द्वारा बिना अनुमति से अवैध मुरम लाकर जेसीबी द्वारा वाचनालय के निर्माण कार्य के फाउंडेशन में डालने का कार्य किया गया है. गुप्त जानकारी के अनुसार 14 दिसंबर को शाम 7 से 8 बजे के दौरान अंधेरे में इस कार्य को अंजाम दिया गया है. ऐसे शासकीय कार्यों में अवैध सामग्रियों का उपयोग दुर्भाग्यपूर्ण है जिसमें बड़े पैमाने पर राजस्व विभाग को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है.

रॉयल्टी की राशि बचाने के चक्कर में इस प्रकार के कार्य किए जा रहे हैं और कमाल तो यह है कि इसके बावदजू राजस्व विभाग नींद में है. जिप बांधकाम विभाग के अभियंता निमजे के अनुसार निर्माण कार्य में लगने वाली सामग्रियों की जिम्मेदारी ठेकेदार की है, इस विषय की पूर्ण जांच की जाएंगी.