लॉकडाउन में ऐसे बढ़ाए अपनी ‘इम्युनिटी पावर’

कोरोना के चलते देश में लॉकडाउन शुरू है। इस दौरान सभी लोग अपने घरों में है। इस बिच हर कोई अपना स्वास्थ्य ठीक रखने की कोशिश कर रहा है। अपनी इम्युनिटी पॉवर को बढ़ाने के लिए अलग अलग प्रयोग कर रहे है। लेकिन मानव शरीर की रचना ऐसी की गई है कि, शरीर में कोई भी समस्या आये तो अपना शरीर खुद उस समस्या से लड़ता है। इसके लिए इम्युनिटी पावर स्ट्रांग होना आवश्यक है।  

शरीर में इम्युनिटी खाने से मिले पोषक तत्वों से बढ़ती है। यह पोषक तत्व कार्बोहाइड्रेट, एमिनो एसिड, लिपिड, विटामिन, खनिज, पानी और फाइबर के रूप में आते हैं। ये पोषक तत्व प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं और शरीर को बीमारी से लड़ने में मदद करते हैं।

इसलिए प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने वाले पोषक तत्वों का एक स्थिर और संतुलित आहार आवश्यक है। इनमें प्रोटीन, फाइटोकेमिकल्स, एंटी-ऑक्सीडेंट, जैव-फ्लेवोनोइड्स, ओमेगा -3 फैट्स, विटामिन सी, डी, ए, ई, बी 12 आदि के साथ ही जस्ता, लोहा, मैग्नीशियम, क्रोमियम, सेलेनियम आदि खनिज शामिल हैं। 

ऐसे बढ़ाए अपनी इम्युनिटी पावर 
– लहसुन, अदरक, नींबू, दही या छाछ, आंवला, दालचीनी, ताजे फल और सब्जियां, अखरोट, बादाम, मसूर, सूरजमुखी के बीज के साथ-साथ अंजीर, राजगिरा, तुलसी के पत्ते, हल्दी, काली मिर्च, भरपूर टमाटर सभी आपके दैनिक आहार होने चाहिए। ये सभी प्रतिरक्षा शक्ति को बढ़ाने में मदद करते है। 

– ग्रीन टी, छाछ, नींबू का रस, नारियल पानी और सादे पानी के रूप में तरल पदार्थों का खूब सेवन करें। 

– एक बार में बहुत अधिक खाने के बजाय, कम मात्रा में कुछ समय का अंतर रखकर कम मात्रा में खाएं। नाश्ता और दोपहर का भोजन संतुलित होना चाहिए।

– शरीर के उचित वजन को बनाए रखने के लिए सिस्टम को सही स्थिति में रखने के लिए पर्याप्त भोजन लें। इस अवधि के दौरान आहार पर ध्यान रखें।

– खाने में नमक का उपयोग मध्यम मात्रा में करें। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्रति दिन 5 से 6 ग्राम नमक की सिफारिश की है। खाना खाने के दौरान अलग से नामक न डालें। 

– शक्कर या अधिक तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन न करें। इसमें हानिकारक कैलरीज होती है जो वजन बढाती है। 

– सभी खाद्य पदार्थों में विभिन्न स्तर के पोषक तत्व होते है। किसी भी एक भोजन में शरीर को लगने वाली सभी आवश्यक पोषक तत्वों की पर्याप्त मात्रा नहीं होती है। इसलिए हमेशा संतुलित आहार लें।

ऐमारैंथ, अंजीर, आंवला, सेब, नट्स और अलसी के बारे में कुछ तथ्य 
1. ऐमारैंथ
: ऐमारैंथ एक बहुत ही पौष्टिक और ग्लूटेन मुक्त अनाज है। यह प्रोटीन, फाइबर, माइक्रोन्यूट्रिएंट और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है। इसलिए यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और कैंसर, हृदय रोग जैसे संक्रामक रोगों से बचाता है।

2. अंजीर: अंजीर कैल्शियम, पोटेशियम, जस्ता, तांबा और विटामिन बी, फाइबर का एक बड़ा स्रोत है। सूखे अंजीर में फाइब्रॉएड होते हैं जो कब्ज को कम करते हैं। कोलेस्ट्रॉल कम होता है और शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है। अंजीर में एंटीऑक्सीडेंट अधिक होते हैं। इसलिए शरीर को हानि पहुंचाने वाले रेडिकल्स को कम करता है। 

3. आंवला: आंवला विटामिन सी से भरपूर होता है। यह शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने का काम करता है। यह कई बीमारियों से बचाता है। इसका पोषण फ्लेवोनोइड्स, गैलिक एसिड, एलॉजिक एसिड जैसे पॉलीफेनोल्स की एक श्रृंखला के साथ आता है। इसलिए आंवले को कैंसर कोशिकाओं के विकास से लड़ने के लिए जाना जाता है। 

4. सेब: इस प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले फल के प्रीबायोटिक लाभ हैं। इसमें बड़ी मात्रा में फाइबर होता है, जो एक स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ-साथ अच्छे आंत बैक्टीरिया के विकास के लिए आवश्यक है। अध्ययनों से पता चला है कि, सेब में घुलनशील फाइबर मोटापे को कम करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है।

5. नट्स: नट्स प्रोटीन, फाइबर, विटामिन ई, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, मैंगनीज, सेलेनियम, आदि से भरपूर होता है। यह प्रतिरक्षा कोशिकाओं के विकास के साथ-साथ एंटीबॉडी बढ़ाने में मदद करता है। लेकिन इसके लिए सही नट्स चुनें। जैसे अखरोट, बादाम, ब्राजील काजू, पिस्ता आदि।

6. अलसी: अलसी के बीज ओमेगा थ्री फैटी एसिड, एमयूएफए, फोलेट, विटामिन बी 1 और बी 6 और फाइबर से भरपूर होते हैं। 

सात्विक पोषक तत्वों के उपरोक्त सिद्धांतों और आपको किन पोषक तत्वों की आवश्यकता है, यह जानकर हम अपने स्वास्थ्य को बेहतर बना सकते हैं। बीमारी से बचाव कर सकते हैं।