हृदय के बिना जीवन असंभव, जानें इसकी संचरना

हृदय हमारे जीवन के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, इसके बिना जीवन ही असंभव है। हृदय संबंधी जागरूकता फैलाने के लिए पूरे विश्व में हर साल 29 सितंबर को हृदय दिवस मनाया जाता है। इस आयोजन की पहल विश्व हृदय संघ के निदेशक ने 1999 में आंटोनी बेस दे लुना ने डब्ल्यूएचओ (WHO) के साथ मिलकर की थी।   

हमारा पूरा जीवम हृदय (Heart) पर निर्भर है। मानव शरीर में दिल महत्वपूर्ण अंग है, जिसके बिना जीवन असंभव है। हमारा दिल बिना थके, बिना आराम किए 24 घंटे लगातार काम करता है। औसत जीवनकाल में, यह लगभग 2.5 बिलियन बार धड़कता है, जिससे शरीर के हर हिस्से में लाखों गैलन रक्त पहुंचता है। हृदय इतना महत्वपूर्ण होता है कि इसकी तुलना दुनिया की किसी चीज़ से नहीं की जा सकती। इसे स्वस्थ रखना हमारी ज़िम्मेदारी है।  

हृदय, वक्ष (chest) के बाईं ओर दोनों फेफड़ों के बीच में होता है। इसका आकर मुट्ठी के समान है और वजन लगभग 300 ग्राम होता है। दिल चारों तरफ से एक झिल्ली द्वारा लिपटा रहता है। इस झिल्ली को ‘पेरीकार्डियम’ (Pericardium) कहते हैं। हमारा दिल निरंतर सिकुड़ता और फैलता रहता है। इस क्रिया से हमारा दिल रक्तवाहिनियों के द्वारा शरीर के सभी हिस्सों में खून निरंतर भेजता रहता है।

हृदय दो भागों में विभाजीत है।
दिल के दो भाग होते हैं, एक दायां और दूसरा बायां। यह दोनों भाग मांस के परदे द्वारा एक-दूसरे से अलग रहते हैं। इस परदे को ‘सेप्टम’ (Septum) कहते हैं। इसके कारण बाएं भाग से रक्त न तो दाएं भाग में जा सकता है और न ही दाएं भाग से बाएं भाग में आ सकता है। इस प्रकार दायां और बायां भाग अलग-अलग पम्प के रूप में अपना काम करता है। सारे शरीर का रक्त नसों के द्वारा दाएं भाग में पहुंचता है और यहीं से फेफड़ों में आता है। फिर बायां भाग फेफड़ों से रक्त लेकर पूरे शरीर में संचारित करता है।

हृदय की संरचना (Structure of heart) – 

हृदय के इन दोनों भागों में से प्रत्येक के दो भाग हैं। ऊपर के भाग को, जो रक्त ग्रहण करता है, आलिंद (Atrium) कहते हैं और नीचे के पम्प करने वाले भाग को निलय (Ventricle) कहते हैं। एट्रियम को रक्त-पम्प संबंधी बहुत कम कार्य करना पड़ता है, इसलिए इसकी मांसपेशियां पतली होती हैं। वेन्ट्रिकल की मांसपेशियां मोटी और मजबूत होती हैं, क्योंकि यह रक्त को अधिक दाब से पम्प करता है।

हृदय का कार्य –

हृदय एक आश्चर्यजनक पम्प है। वास्तव में हृदय का दायां भाग अशुद्ध रक्त को शुद्ध करने के लिए दोनों फेफड़ों में भेजता है और इसका बायां भाग फेफड़ों से लौटे हुए शुद्ध रक्त को शरीर में भेजता है। इस प्रकार हृदय शरीर में रक्त का संचार निरंतर बनाए रखता है। 

एक सामान्य स्वस्थ व्यक्ति का हृदय एक मिनट में 70 बार धड़कता है। प्रत्येक धड़कन में हृदय लगभग 70 मि.ली. रक्त पम्प करता है। इस प्रकार 70 धड़कनों में हृदय 5 लीटर रक्त पम्प करता है। हमारे शरीर में कुल रक्त की मात्रा 5-6 लीटर होती है। लेकिन 14 घंटे में हमारा हृदय 8-10 हजार लीटर रक्त पम्प करता है।