प्रदूषित हवा में रहने से बढ़ता है वज़न, रिसर्च में हुआ खुलासा  

आज के दौर में पॉल्यूशन की समस्या हर एक देश झेल रहा है। यह सेहत के लिए बेहद हानिकारक होता है। यह दिल, फेफड़े और शरीर के बाकि जगह पर भी बहुत बुरा असर करता है। इसकी वजह से लोगों को साँस की दिक्कत होने लगती है। हवा में मौजूद छोटे धूल के कणों में लंबे समय तक संपर्क में रहने से साँस संबंधी समस्याएं, सासं की नली में जलन, अस्थमा, COPD, किडनी की समस्याएं जैसी गंभीर बीमारी होने लगती है। कई बार यह कैंसर का कारण भी बन जाता है। वहीं अब एक रिसर्च से यह पता चला है कि प्रदूषित हवा में सांस लेने से लोग मोटापे के भी शिकार हो सकते हैं। 

क्या कहती है रिसर्च?
फेडरेशन ऑफ अमेरिकन सोसाइटीज़ के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, वायु प्रदूषण हमारे शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है। इससे हमारे वज़न पर भी काफी असर पड़ता है। शोधकर्ताओं ने यह रिसर्च चूहों पर किया है, इस दौरान उन्होंने गर्भवती चूहों को प्रदूषित जगह पर रखा जबकि दूसरे ग्रुप को साफ हवा वाली जगह पर रखा। फिर उन्होंने 19 दिनों के बाद यह रिजल्ट पाया कि जो चूहे प्रदूषित हवा में सांस ले रहे थे उन्हें काफी समस्या हो रही थी जैसे-

  • एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर 50 प्रतिशत तक बढ़ गया। 
  • उनके फेफड़े फूल गए थे।
  • इंसुलिन प्रतिरोध स्तर भी बढ़ गया।

वहीं जो चूहे भयानक प्रदूषण में जी रहे थे, वह मात्र 8 हफ्तों में बेहद मोटे हो गए थे। जबकि चूहों के दोनों समूह को एक सा खाना दिया गया था।जिसके बाद माना गया कि चूहे प्रदूषण हवा में रहने से इंफ्लेशन यानी सूजन की वजह से उनका वज़न बढ़ा था। हालांकि, ये अध्ययन चूहों पर किया गया था लेकिन प्रदूषण का असर इंसानों पर भी वैसा ही होता है। इसी वजह से इंसान को प्रदूषण से बचने की बहुत ज़रूरत है। इसलिए जब भी आप बाहर जाएं तो फेस मास्क पहनना न भूलें। हो सके तो अपने घरों में एयर प्यूरीफायर और ऐसे पौधे लगाएं जो हवा को ताज़ा बनाते हैं।