पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (PCOS) से ग्रसित महिलाएं करें ये योगासन

पॉलीसिस्टिक सिंड्रोम (PCOS) की समस्या से आजकल लगभग हर महिला परेशान है। गलत खान-पान और ज्यादा स्ट्रेस के चलते यह परेशानी होती है। इससे बचने के लिए आप अपने घरों में निम्नलिखित योगासनों को कर सकते

पॉलीसिस्टिक सिंड्रोम (PCOS)  की समस्या से आजकल लगभग हर महिला परेशान है। गलत खान-पान और ज्यादा स्ट्रेस के चलते यह परेशानी होती है। इससे बचने के लिए आप अपने घरों में निम्नलिखित योगासनों को कर सकते हैं। 

चक्की चलनासन: पुराने जमाने की महिलाओं को बहुत कम ऐसी समस्याएं हुआ करती थी, बल्कि नामात्र के बराबर थीं। इसकी वजह वह हाथ से चक्की चलाकर गेंहूं पीसा करती थी। मगर आज बदलते दौर में चक्की न सहीं, आप इस आसन को करके PCOS की समस्या से काफी हद तक बच सकते हैं।  

सुप्त बद्धकोणासन: पीसीओस से बचने के लिए बद्धकोणासन भी एक बहुत अच्छा आसन है। यह आसन बटरफ्लाई पोज़ की तरह किया जाता है परंतु फर्क सिर्फ इतना है की इसे लेटकर करना होता है। आप रोज 5 से 10 मिनट तक इस आसन का अभ्यास करें। PCOS से बचने के साथ-साथ पेट की एक्सट्रा फैट को कम करने में भी यह आसन बहुत लाभदायक है।  

तितली आसन: पीसीओस की समस्या को ठीक करने और इससे बचे रहने के लिए तितली आसन बेहद लाभदायक है। इस आसन को करने से पेट की मांसपेशियों में खिंचाव आएगा जिससे आपस में जुड़ी हुई मांसपेशियां खुलकर सांस ले सकेंगी और पेट व ओवरी में बनने वाली गांठों से आप बच पाएंगे।

शवासन: कुछ महिलाओं को PCOS की समस्या ज्यादा तनाव लेने की वजह से होती है। आप श्वासन की मदद से तनाव मुक्त रह सकती हैं। इस आसन को आप दिन में 3 से 4 बार भी कर सकती हैं। जब-जब आपको तनाव महसूस हो, आप इस तरह श्वासन के जरिए खुद को तनाव मुक्त करके PCOS की समस्या से बच सकती हैं।

पद्मसाधना: पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम के मरीजों के लिए एक बहुत अच्छी विधि है। मगर ध्यान रखें किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर को पूछे बगैर इस आसन को न करें।