ये हो सकते हैं दिल की बीमारी के लक्षण, ना करें नज़रअंदाज़

हृदय हमारे जीवन के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, इसके बिना जीवन ही असंभव है। हृदय संबंधी जागरूकता फैलाने के लिए पूरे विश्व में हर साल 29 सितंबर को हृदय दिवस मनाया जाता है। इस आयोजन की पहल विश्व हृदय संघ के निदेशक ने 1999 में आंटोनी बेस दे लुना ने डब्ल्यूएचओ (WHO) के साथ मिलकर की थी।

दिल की बीमारी को लोग अक्सर अनदेखा कर देते हैं। शुरआती लक्षण को ही अगर भांप लिया जाए तो इस बीमारी से बचा जा सकता है। लोग अक्सर कुछ भी हो जाए जैसे बदन दर्द हो रहा है तो एक गोली खा ली, सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो बाहर हवा में चले गए, थकान महसूस कर रहे हैं तो एक झपकी ले ली। यह सब करना सही नहीं होता। यह सभी दिल की बीमारी के भी लक्षण हो सकते हैं। यही वह बातें हैं जिस पर हमें गौर करने की ज़रूरत होती है। तो आज हम आपको बताएंगे उन लक्षणों के बारे में जिनके बारे में आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। 

दिल की बीमारी के लक्षण (Heart disease symptoms)

सांस लेने में तकलीफ: 
शारीरिक मेहनत के दौरान सांस लेने में तकलीफ होना आम है लेकिन जब आप कुछ भी न कर रहे हो फिर भी अगर सांस लेने तकलीफ होती है तो आपको डॉक्टर के पास ज़रूर जाना चाहिए। बहुत से लोग बिस्तर पर सीधा लेटने पर भी ठीक से सांस नहीं ले पाते हैं। ऐसा तब होता है जब दिल तक पहुंचने वाला खून इतना ज़्यादा होता है कि वह उसे ठीक से पंप नहीं कर पाता है। यह भी दिल की बीमारी के लक्षण होते हैं। 

थकावट और थकान:
अगर आप रोज़मर्रा के मामूली काम करने में भी थक जाते हैं, जैसे शॉपिंग करना या किराने का सामान उठाना, तो आपको डॉक्टर के पास जाने की ज़रूरत है। हो सकता है कि आपके दिल को मदद की ज़रूरत हो। दिल को स्वस्थ रखना आपकी ज़िम्मेदारी होती है। अगर कभी भी ऐसा कुछ महसूस हो तो डॉक्टर के पास ज़रूर जाएं। 

भूख कम लगना: 
अगर आपको लगता है कि आपका पेट ठीक नहीं रहता है या ऐसा महसूस करते हैं कि आपका पेट अक्सर भरा रहता है, तो यह इस बात का इशारा हो सकता है कि आपके पाचन तंत्र (डाइजेस्टिव सिस्टम) तक उतना खून नहीं पहुंच रहा है जितना पहुंचना चाहिए। पेट से जुड़ी परेशानी की वजह जानने के लिए अपने डॉक्टर से बात ज़रूर करें। 

दिल की धड़कन बढ़ जाना: 
जब हृदय ज़रूरत के मुताबिक खून पंप नहीं कर पाता है, तो सभी अंगों में खून पहुंचाने के लिए दिल तेज़ी से खून पंप करने लगता है। तेज़ी से खून पंप करने का मतलब है, एक मिनट में दिल सामान्य से कहीं ज़्यादा धड़कता है। अगर आपके साथ ऐसा कुछ हो रहा है तो आप बिलकुल डॉक्टर के पास जाएं।