Lungs-and-Conch-Shell

    – सीमा कुमारी

    आज पूरा विश्व कोरोना महामारी की चुनौतियों का सामना कर रहा है। लोग वायरस से बचने के लिए आयुर्वेद से लेकर देसी नुस्खों को अपनाकर अपना इम्यून सिस्टम मजबूत कर रहे हैं। संकट की इस घड़ी में ऑक्सीजन लेवल को बढ़ाने के लिए लोग क्या कुछ नहीं कर रहे हैं। अगर आप भी अपने लंग्स (lungs) को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो ऐसे में शंख (Conch Shell) बजाना एक बेहतर विकल्प है।

    यूं तो शंख बजाना हिंदू धर्म में विशेष महत्व रखता है। हर पूजा पाठ में शंखनाद जरूर किया जाता है। इसका धार्मिक महत्व होने के साथ ही स्वास्थ्य के लिए भी यह काफी फायदेमंद माना जाता है। शंखनाद  करने से फेफड़े मजबूत होते हैं। इसके अलावा और भी कई फायदे हैं।

    आइए जानें इसके फायदों के बारे में:-

    हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, रात भर शंख में पानी रखकर सुबह उस पानी को आंखों में डालने से ड्राई आई सिंड्रोम सूजन, आंखों में इंफेक्‍शन आदि प्रोब्लेम्स से राहत मिल सकती है।

    ज्योतिष-शास्त्र के मुताबिक, शंख में ऐसे कई गुण होते हैं जिससे घर में निगेटिव एनर्जी दूर होकर पॉजिटिव एनर्जी आती है। इसकी ध्वनि सुनकर हमारा तनाव भी कम हो जाता है। मंदिरों में शंख की ध्वनियां ही सकारात्मकता लाती हैं। शंख की आवाज से ‘सोई हुई भूमि’ जाग्रत होकर शुभ फल देती है और सकारात्मकता प्रवेश करती है।

    ऐसा कहते हैं कि शंख में कैल्शियम, गंधक और फॉस्फोरस की भरपूर मात्रा होती है। शंख में रातभर पानी भरकर सुबह उस पानी से चेहरा धोने से त्वचा की रौनक एवं चमक बढ़ती है।

    वैज्ञानिकों का मानना है कि इसकी आवाज से वातावरण में मौजूद कई तरह के जीवाणुओं-कीटाणुओं का नाश हो जाता है। शोध में भी ये बात सामने आ चुकी है कि शंख  ध्वनि से आस-पास के विषाक्त बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं। विज्ञान के अनुसार, शंख की ध्वनि से दूषित वातावरण शुद्ध हो जाता है।